ट्राइग्लिसराइड्स सामान्य स्तर, उच्च स्तर के जोखिम, कारण और रोकथाम | Triglycerides Test in Hindi

ट्राइग्लिसराइड्स किसी व्यक्ति के शरीर में मौजूद वसा का सबसे आम प्रकार है। शरीर वसा के इस रूप को संग्रहीत कर के ऊर्जा के रूप में उपयोग करता है। रक्तप्रवाह में उच्च ट्राइग्लिसराइड्स कई बीमारियों के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। इस ब्लॉग में हम पढ़ेंगे ट्राइग्लिसराइड्स के सामान्य स्तर, स्तर बढ़ने के कारण, और उन्हें कम करने के तरीके।

ट्राइग्लिसराइड्स सामान्य स्तर, उच्च स्तर के जोखिम, कारण और रोकथाम

Table of Contents

ट्राइग्लिसराइड्स क्या हैं? | Triglycerides in Hindi

भोजन के सिस्टम में जाने के बाद, चीनी, कैलोरी और अल्कोहल जिसकी किसी व्यक्ति के शरीर को आवश्यकता नहीं होती है, ट्राइग्लिसराइड्स में परिवर्तित हो जाते हैं। साथ ही, शरीर उन्हें वसा कोशिकाओं में जमा करता है। जब किसी व्यक्ति को ऊर्जा की आवश्यकता होती है, तो हार्मोन ट्राइग्लिसराइड्स को मुक्त करते हैं। यदि कोई व्यक्ति उसकी आवश्यकता से अधिक उच्च कार्बयुक्त खाद्य पदार्थ खाता है, तो ट्राइग्लिसराइड के स्तर बढ़ने का जोखिम हो सकता है।

ट्राइग्लिसराइड में होते हैं:

  1. 3 फैटी एसिड (संतृप्त, असंतृप्त वसा, या दोनों)
  2. ग्लिसरॉल: साधारण चीनी या एक प्रकार का ग्लूकोज।

उच्च ट्राइग्लिसराइड के स्तर को अक्सर हाइपरट्रिग्लिसराइडिमिया के रूप में जाना जाता है। यह एथेरोस्क्लेरोसिस नामक स्थिति के लिए एक उच्च जोखिम की वजह हो सकता है। इसमें धमनियों सिकुड़ने लगती है और इससे दिल का दौरा या स्ट्रोक हो सकता है। उच्च ट्राइग्लिसराइड का स्तर लिवर की समस्याओं और अग्नाशयशोथ (अग्न्याशय सूजन) के अधिक जोखिम का संकेत दे सकता है।

ट्राइग्लिसराइड्स के सामान्य और उच्च स्तर

किसी व्यक्ति में लिपिड पैनल निम्न स्तरों के लिए रक्त की जाँच करेगा:

  1. कुल कोलेस्ट्रॉल, एचडीएल, एलडीएल कोलेस्ट्रॉल
  2. ट्राइग्लिसराइड्स

एक सामान्य रक्त परीक्षण आपको बताता है कि आपके  ट्राइग्लिसराइड की स्वस्थ स्तर में हैं या नहीं:

वयस्कों के लिए | Triglycerides Levels For Adults in Hindi

  1. सामान्य — 150 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर (mg/dl) से कम या 8.33 मिलीमोल्स प्रति लीटर (mmol/L) से कम
  2. बॉर्डरलाइन उच्च – 150 से 199 मिलीग्राम / डीएल (8.32 से 11.05 mmol/L)
  3. उच्च – 200 से 499 मिलीग्राम/डीएल (11.11 से 27.72 mmol/L)
  4. बहुत अधिक – 500 मिलीग्राम/डीएल या अधिक (27.77 mmol/L या अधिक)

बच्चों के लिए (10 से 19 वर्ष) | Triglycerides Levels For Teens in Hindi

  1. सामान्य — 90 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर (mg/dl) से कम या 5 मिलीमोल प्रति लीटर (mmol/L) से कम
  2. बॉर्डरलाइन उच्च – 90 से 129 मिलीग्राम / डीएल (5 से 7.17 mmol/L))
  3. उच्च – 130 या उससे अधिक मिलीग्राम/डीएल (7.2 mmol/L या अधिक)

बच्चों के लिए (10 वर्ष से कम) | Triglycerides Levels For Children in Hindi

  1. सामान्य — 75 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर (mg /dl) से कम या 4.17 मिलीमीटर प्रति लीटर (mmol/L) से कम
  2. बॉर्डरलाइन उच्च – 75 से 99 मिलीग्राम / डीएल (4.17 से 5.5 mmol/L)
  3. उच्च – 100 या उससे अधिक mg/dL (5.56 mmol/L या अधिक)

जाँच से पहले आपको 12 घंटे तक खाने से मना किया जाता है, आपको उपवास करना होता है। किसी भी व्यक्ति के लिए टीजी का नॉन-फास्टिंग स्तर 150 मिलीग्राम/डीएल से कम व फास्टिंग स्तर 30 मिलीग्राम/डीएल से कम होना चाहिए। यह “फास्टिंग टेस्ट” संख्या काफी कम इसलिए होती है क्योंकि केवल लीवर द्वारा तैयार किए गए टीजी और वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल को इसमें मापा जाता है, न कि खाद्य उत्पादों से प्राप्त टीजी को। चूंकि व्यक्ति ने कुछ भी नहीं खाया है इसलिए रक्त में कोई काइलोमाइक्रोन मौजूद नहीं होगा।

उच्च ट्राइग्लिसराइड्स के क्या कारण है? | Reason For High Triglycerides Levels in Hindi

निम्नलिखित कारणों से ट्राइग्लिसराइड का स्तर बढ़ सकता है:

  1. मोटापा
  2. उच्च कोलेस्ट्रॉल का इतिहास
  3. चीनी और साधारण कार्ब्स से भरपूर भोजन का सेवन
  4. हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप
  5. अनुपचारित मधुमेह होना
  6. कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स, मूत्रवर्धक, हार्मोन, या बीटा-ब्लॉकर्स जैसी विभिन्न दवाओं का सेवन करना
  7. अधिक मात्रा में शराब का सेवन
  8. लीवर या किडनी की समस्या होना
  9. थायराइड की समस्या
  10. रजोनिवृत्ति
  11. धूम्रपान

इसको भी पढ़े: शुगर लेवल चार्ट उम्र के अनुसार

मधुमेह में उच्च ट्राइग्लिसराइड्स के 8 कारण | Reason For High Triglycerides Levels in Diabetes in Hindi

  1. अनियंत्रित रक्त शर्करा स्तर
  2. खराब आहार और व्यायाम पैटर्न
  3. मोटापा
  4. इंसुलिन रेज़िस्टेंस
  5. किड्नी फैल्यर
  6. आनुवांशिक
  7. थाइरॉइड
  8. विभिन्न दवाएं

ट्राइग्लिसराइड्स और मधुमेह

उच्च ट्राइग्लिसराइड का स्तर स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत है जो हृदय की समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है। उच्च स्तर कई परेशानियों को जन्म देता हैं जैसे :

  1. प्रीडायबिटीज या टाइप 2 डायबिटीज
  2. कम थायराइड हार्मोन का स्तर ( जिसे हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है)
  3. मेटाबोलिक सिंड्रोम: यह एक ऐसी स्थिति है जब मोटापा, उच्च रक्तचाप और उच्च रक्त शर्करा एक साथ होते हैं। यह दिल की समस्याओं के खतरे को बढ़ाता है।
  4. विभिन्न वंशानुगत समस्याओं का शरीर में वसा को ऊर्जा में परिवर्तित करने पर प्रभाव

कभी-कभी, उच्च ट्राइग्लिसराइड्स विभिन्न दवाओं के बुरे प्रभाव के कारण भी होता है जैसे:

  1. एचआईवी दवाएं
  2. मूत्रल
  3. ‘स्टेरॉयड
  4. रेटिनोइड्स
  5. एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन
  6. बीटा अवरोधक
  7. प्रतिरक्षादमनकारियों (इम्यूनोसप्रेसेंट)

इसको भी पढ़े: Yoga For Diabetes in Hindi

ट्राइग्लिसराइड्स की जाँच

एयह जाँच रक्त में टीजी के स्तर को मापती है। टीजी माप लिपोप्रोटीन पैनल (लिपिड पैनल) के अंतर्गत आता है। इसमें कोलेस्ट्रॉल (HDL, LDL) और ट्राइग्लिसराइड्स का एक साथ मूल्यांकन किया जाता है। परीक्षण से लगभग 6 से 12 घंटे पहले उपवास करना आवश्यक है। पाचन और खाना खाने के बाद जाँच से रक्त में वसा के स्तर पर प्रभाव पड़ता है। यदि खाने के तुरंत बाद आपने जाँच कारवाई हो ती इसके ग़लत परिणाम आ सकते हैं।

कितनी बार जाँच की आवश्यकता है?

AHA के अनुसार 20 साल से ऊपर के व्यक्तियों का हर 4 से 6 साल में परीक्षण किया जाना चाहिए। किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के आधार पर, स्वास्थ्य सेवा प्रदाता नियमित जाँच का सुझाव दे सकता हैं। साथ ही, AHA बच्चों को 9-11 वर्ष की आयु तक पहुँचने पर एक बार जाँच करने का सुझाव देता है। साथ ही, एक बार फ़िर जब बच्चे 17 और 21 वर्ष के आयु वर्ग में पहुंच जाते हैं।

सारांश

सामान्य ट्राइग्लिसराइड्स से ज़्यादा होने पर किसी व्यक्ति में दिल की समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है। इनमें arteriosclerosis धमनीकाठिन्य (धमनी की दीवार की मोटाई से धमनी का सख्त होना), दिल का दौरा और स्ट्रोक शामिल हो सकते हैं। यदि किसी व्यक्ति का स्तर बहुत अधिक है, तो उसे अग्नाशयशोथ और यकृत संबंधी समस्याओं का खतरा हो सकता है।

उच्च ट्राइग्लिसराइड्स के लिए उपचार

हेल्थकेयर प्रदाता अधिक ट्राइग्लिसराइड्स के इलाज के लिए दवाओं का सुझाव दे सकते हैं। इनमें से कुछ दवाओं में शामिल हैं:

  1. कोलेस्ट्रॉल अवशोषण अवरोधक
  2. रोसुवास्टेटिन और एटोरवास्टेटिन सहित स्टेटिन
  3. जेम्फिब्रोज़िल और फ़ेनोफ़िब्रेट सहित फ़िब्रेट्स
  4. PCSK9 अवरोधक
  5. निकोटिनिक एसिड

मधुमेह के साथ ट्राइग्लिसराइड्स कैसे कम करें

उच्च ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने के 3 बुनियादी तरीकों में शामिल हैं:

  1. स्वस्थ, पौष्टिक आहार का सेवन
  2. वजन प्रबंधन या वैट मैनेजमेंट
  3. नियमित एरोबिक व्यायाम करना

स्वस्थ जीवन शैली का चुनाव जो उच्च ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने में उपयोगी होते हैं वे हैं:

उच्च ट्राइग्लिसराइड्स के लिए आहार

उच्च ट्राइग्लिसराइड को सामान्य स्तर पर बनाए रखने के लिए सही आहार या डाइट महत्वपूर्ण है। आमतौर पर, केवल उतनी ऊर्जा या भोजन का उपभोग करें जितनी आपके शरीर को उस दिन के लिए ज़रूरी हो और बहुत अधिक कैलोरी से बचें। कुछ अच्छे भोजन के विकल्पों में शामिल हैं:

  1. फल
  2. सब्जियां
  3. फलियां
  4. साबुत अनाज
  5. गैर-उष्णकटिबंधीय वेजी तेल जैसे जैतून का तेल
  6. पतला, स्वस्थ प्रोटीन स्रोत (नट्स, सी फूड, कम वसा वाले डेयरी उत्पाद)

इसके अलावा, कुछ चीजों से परहेज करना महत्वपूर्ण है जैसे:

  1. शराब
  2. अतिरिक्त चीनी
  3. मीठे पेय
  4. मीठा और बेक किया हुआ सामान
  5. वसायुक्त मांस

साथ ही, लोगों को हाइड्रोजनीकृत तेल या वसा वाले खाद्य उत्पादों से बचना चाहिए। मांस में मौजूद वसा के बजाय, पौधे आधारित वसा का चयन करना बेहतर होता है। इनमें जैतून का तेल और कैनोला तेल शामिल हो सकते हैं। लोगों को रेड मीट के बजाय, उच्च मात्रा में ओमेगा -3 फैटी एसिड वाली मछली को अपने खाने में शामिल करें जैसे मैकेरल या सैल्मन। शराब का सेवन सीमित करें क्योंकि शराब कैलोरी और चीनी से भरपूर होती है।

इसको भी पढ़े: डायबिटीज के मुख्य कारण क्या होते है?

सारांश

चीनी और सफेद आटे, ट्रांस वसा या फ्रुक्टोज से तैयार खाद्य पदार्थों जैसे साधारण कार्ब्स को बिल्कुल छोड़ दें। इसके अलावा, शराब ना पियें क्योंकि शराब कैलोरी और चीनी दोनों से भरपूर होती है। यह खतरनाक रूप से ट्राइग्लिसराइड के स्तर को बढ़ा सकता है।

उच्च ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को नियंत्रित करने के लिए व्यायाम

AHA के अनुसार साप्ताहिक रूप से डेढ़ घंटे तक मध्यम-तीव्रता वाला  एरोबिक व्यायाम करना चाहिए। इसमें शामिल है प्रत्येक सप्ताह 5 दिन लगभग आधे घंटे का व्यायाम या प्रत्येक सप्ताह 75 मिनट का तीव्र एरोबिक व्यायाम।

व्यायाम हर व्यक्ति के लिए स्वास्थ्य का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह स्वस्थ वज़न बनाए रखने में मदद करता है। इसके अलावा, व्यायाम ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम रखने में मदद कर सकता है। व्यायाम द्वारा कैलोरी जलाने पर शरीर में उपस्थित अतिरिक्त ट्राइग्लिसराइड्स का उपयोग किया जा सकता है।

सारांश

अच्छे हृदय स्वास्थ्य के लिए, मध्यम-तीव्रता वाले व्यायाम या कोई भी हल्के एरोबिक व्यायाम करना एक अच्छी शुरुआत है।

वजन प्रबंधन या वैट मैनेजमेंट

अतिरिक्त कैलोरी ट्राइग्लिसराइड्स में परिवर्तित हो जाती है और शरीर में वसा के रूप में जमा हो जाती है। यदि कोई व्यक्ति अपनी कैलोरी कम करता है, तो वह ट्राइग्लिसराइड्स को कम करेगा। इस प्रकार डाइट प्लान और व्यायाम से सही वज़न बनाए रखा जा सकता है।

ट्राइग्लिसराइड्स को काम करने के लिए कई जीवनशैली बदलाव सहायता कर सकते हैं:

मधुमेह और उच्च रक्तचाप का प्रबंधन करें

  1. तनाव कम करें
  2. पर्याप्त नींद लें
  3. धूम्रपान छोड़ें

सारांश

यदि किसी व्यक्ति में ट्राइग्लिसराइड का स्तर अधिक होता है, तो थोड़ा भी वजन घटाने (5-10 पाउंड) से इसके स्तर को कम कर सकता है।

सप्लीमेंट और दवाएं

ऐसे मामलों में यदि किसी व्यक्ति को अपने ट्राइग्लिसराइड के स्तर को तुरंत नीचे लाने की आवश्यकता होती है या आहार और व्यायाम से कोई असर नहीं होता, तो चिकित्सक सप्लीमेंट या दवाओं का सुझाव दे सकते है। ये ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करते हैं।

फाइब्रेट्स: ये दवाएं ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करती हैं। वे वीडीएल लिपोप्रोटीन (ज्यादातर टीजी से तैयार) के लीवर के उत्पादन को कम करती हैं। इनमें जेमफिब्रोज़िल और फेनोफिब्रेट शामिल हैं। यदि इसे एक स्टेटिन के साथ में लिया जाता है, तो फाइब्रेट्स के कई दुष्प्रभाव पड़ सकते हैं।

मछली का तेल: ज़्यादत मात्र में ओमेगा -3 फैटी एसिड, टीजी को कम करने में मदद कर सकता है इसलिए यह सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला सप्लीमेंट है।

स्टैटिन: ये एचएमजी सीओए रिडक्टेस ब्लॉकर्स हैं। ये दवाएं लीवर में कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को रोकती हैं। वे एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को प्रभावी ढंग से कम करते हैं। इसके अलावा, वे यूएसएफडीए के अनुसार टीजी को कम करते हैं और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल बढ़ाते हैं।

नियासिन: इसे निकोटिनिक एसिड भी कहा जाता है। यह एक बी विटामिन है जो एचडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है। यह कुल कोलेस्ट्रॉल, एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और टीजी के स्तर को भी कम करता है। यदि किसी व्यक्ति का ट्राइग्लिसराइड का स्तर 500 मिलीग्राम / डीएल से ऊपर है, तो एक चिकित्सक नियासिन लेने का सुझाव देते है। नियासिन अन्य दवाओं के साथ क्रिया करके कई दुष्प्रभाव भी देता है इसलिए डॉक्टर से बात किए बिना ओटीसी नियासिन का सेवन नहीं करना बेहतर है।

सप्लीमेंट या दवाएं जो ट्राइग्लिसराइड्स को कम करती हैं, वे अन्य दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकती हैं इसलिए इनका सेवन डॉक्टर के मार्गदर्शन में ही करना चाहिए।

सारांश

ट्राइग्लिसराइड वसा या लिपिड का एक रूप है। यह आहार में मुख्य रूप से वसा से बना होता है। बढ़ा हुआ टीजी स्तर हृदय संबंधी समस्याओं के लिए सबसे बड़ा जोखिम का कारण बनता है। इसके अलावा, ट्राइग्लिसराइड्स के उच्च स्तर के कई और प्राथमिक और माध्यमिक कारण हैं। वे ज्यादातर अन्य शारीरिक स्थितियों की वजह से होते हैं।

क्या ट्राइग्लिसराइड्स का निम्न स्तर चिंता का कारण है?

चूंकि निम्न स्तर वैसे तो चिंता का कारण नहीं हैं और साथ ही इसकी कोई निर्धारित सीमा भी तय नहीं है। ट्राइग्लिसराइड्स के सामान्य से नीचे के स्तर, जो 150 मिलीग्राम / डीएल से नीचे हैं, उनके मुख्य कारण है:

  1. एक स्वस्थ और पौष्टिक आहार
  2. कम वसा वाला आहार
  3. उपवास के साथ आहार

ट्राइग्लिसराइड्स का निम्न स्तर किसी और स्वास्थ्य समस्या का संकेत भी हो सकता है। यह कुपोषण या कुअवशोषण हो सकता है। हालांकि, ऐसी स्वास्थ्य समस्याओं का पता लगाया लगा कर अन्य लक्षणों के आधार पर इसका इलाज किया जाता है।

इसको भी पढ़े: मधुमेह को नियंत्रित करें भारतीय आहार से

डॉक्टर से कब परामर्श लेने की ज़रूरत है?

उच्च ट्राइग्लिसराइड्स का आमतौर पर कोई पूर्व संकेत नहीं होता। यह रक्त जाँच के द्वारा ही पता लगाया जा सकता है। यदि किसी व्यक्ति को कोई उच्च जोखिम वाले कारण जैसे कि चिकित्सा समस्याएं या कोई खराब जीवन शैली नहीं है, तो चिकित्सक कुछ वर्षों के लिए लिपिड पैनल के लिए सुझाव देता है। यह ट्राइग्लिसराइड और कोलेस्ट्रॉल के स्तर की नियमित जांच करता रहता है।

यदि लिपिड पैनल के परिणाम सामान्य ट्राइग्लिसराइड के स्तर से ज़्यादा हैं, तो चिकित्सक कुछ जीवनशैली में बदलाव यानी आहार और व्यायाम का सुझाव दे सकते हैं। यदि आहार और व्यायाम वांछित परिणाम देने में विफल रहते हैं, तो डॉक्टर स्टैटिन या फाइब्रेट्स जैसी दवाओं का सुझाव दे सकते हैं।

सारांश

किसी व्यक्ति के समग्र स्वास्थ्य और हृदय स्वास्थ्य के लिए ट्राइग्लिसराइड का स्तर महत्वपूर्ण है। इन स्तरों को एक मानक सीमा में रखने से हृदय संबंधी समस्याओं के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। चिकित्सक कुछ उच्च जोखिम वाले मामलों में व्यक्तियों के लिए दवाएं सुझा सकते हैं। फिर भी, अधिकांश व्यक्ति संतुलित आहार लेने और नियमित व्यायाम करके अपने ट्राइग्लिसराइड्स को कम कर सकते हैं।

सामान्यतया पूछे जाने वाले प्रश्न:

क्या ट्राइग्लिसराइड का स्तर हर दिन बदलता है?

आहार के अनुरूप ट्राइग्लिसराइड्स तीव्रता से बदलते रहते हैं। उपवास की तुलना में भोजन करने से इनका स्तर 5 से 10 गुना अधिक बढ़ जाता है। यहां तक ​​कि उपवास का स्तर भी दैनिक आधार पर काफी अलग हो सकता है। इसलिए, अलग-अलग दिनों में मूल्यांकन किए गए उपवास टीजी में मामूली बदलाव असामान्य नहीं हैं।

क्या उपवास न करने से ट्राइग्लिसराइड्स का स्तर बदल जाता है?

यह पाया गया है कि 200 मिलीग्राम/डीएल से कम के गैर-उपवास टीजी स्तर को उच्च माना जाना चाहिए। एक व्यक्ति का शरीर अपने वसा ऊतकों में टीजी जमा करता है। हालांकि, वे रक्तप्रवाह में भी मौजूद होते हैं।

क्या तनाव के परिणामस्वरूप उच्च ट्राइग्लिसराइड्स हो सकते हैं?

लंबे समय तक तनाव से कोर्टिसोल का उच्च स्तर टीजी, रक्त कोलेस्ट्रॉल, रक्त शर्करा और रक्तचाप को बढ़ा सकता है। ये सभी हृदय संबंधी समस्याओं के लिए सामान्य जोखिम कारक हैं। तनाव के परिणामस्वरूप धमनियों में प्लाक जमा होने जैसा खतरा भी बढ़ जाता है।

क्या उच्च ट्राइग्लिसराइड्स का गुर्दे पर असर पड़ता है?

ग्रेटर टीजी लगातार बढ़े हुए क्रिएटिनिन स्तर के उच्च जोखिम से जुड़े  हैं। नतीजतन, गुर्दे की कार्यक्षमता कम हो जाती है।

Last Updated on by Dr. Damanjit Duggal 

Disclaimer

The information included at this site is for educational purposes only and is not intended to be a substitute for medical treatment by a healthcare professional. Because of unique individual needs, the reader should consult their physician to determine the appropriateness of the information for the reader’s situation.

Leave a Reply

X