डायबिटीज क्या है? और इसके लक्षण, कारण, इलाज क्या है | Diabetes in Hindi

Last updated on नवम्बर 17th, 2022

मधुमेह  (Diabetes) को वैज्ञानिक रूप से डायबिटीज मेलेटस(diabetes mellitus) के रूप में जाना जाता है, जो बीमारियों के एक समूह को संदर्भित करता है जो आपके शरीर द्वारा रक्त शर्करा (ग्लूकोज) का उपयोग करने के तरीके को प्रभावित करता है। इस बीमारी के कारण ब्लड शुगर (ग्लूकोज़) की मात्रा खून मे सामान्य मात्रा (यानि 120 mg/dL ) मे नहीं रहती | इसके कारण शरीर ब्लड ग्लूकोज का सही तरीके से उपयोग नहीं कर पाता है। लंबे समय से, उचित उपचार के बिना मधुमेह हृदय रोग, किडनी रोग, आंख और दृष्टि संबंधी समस्याएं, पैर दर्द, तंत्रिका संबंधी समस्याएं, और यहां तक ​​कि मृत्यु का कारण बन सकती हैं।

Diabetes in Hindi

मधुमेह (Diabetes) दुनिया भर में गुर्दे की विफलता, दिल का दौरा, अंधापन, पैर के विच्छेदन और स्ट्रोक का प्रमुख कारण है। दुनिया भर में 500 मिलियन लोग मधुमेह के रोगी हैं। भारत में छह में से एक व्यक्ति मधुमेह का रोगी है। भारत में 77 मिलियन मधुमेह रोगी हैं जो देश को दूसरा सबसे अधिक मधुमेह वाला देश बनाते हैं। 2045 तक भारत में 134 मिलियन लोग डायबिटिक हो जाएंगे। यह चिंताजनक है |

भारत में मधुमेह को लेकर सबसे बड़ी चुनौती जागरूकता की कमी है। भारत में 48% मधुमेह रोगियों को पता नहीं था कि उनमें मधुमेह के लक्षण हैं। कई लोग अभी भी मिथकों में विश्वास करते हैं और उन्हें मधुमेह के कारणों और लक्षणों के बारे में उचित जानकारी नहीं है।

कई शोध अध्ययनों ने यह साबित किया है कि विशेष रूप से टाइप 2 मधुमेह (Type 2 diabetes) को अच्छी तरह से प्रबंधित किया जा सकता है यदि इसका जल्दी निदान (diagnosis)  किया जा सके और इसका इलाज सुनियोजित तरीके से किया जाये | इसलिए मधुमेह के प्रबंधन के लिए शीघ्र निदान (diagnosis)  आवश्यक है। यह उचित जागरूकता के माध्यम से किया जा सकता है।

इसलिए हम मधुमेह को और अधिक रोकने के लिए एक बहुआयामी दृष्टिकोण लेकर आए हैं। इस लेख का उद्देश्य आपको मधुमेह (Diabetes) के बारे में सभी जानकारी प्रदान करना है।

Table of Contents

डायबिटीज | Diabetes in Hindi

मधुमेह यानि डायबिटीज (Diabetes) को वैज्ञानिक रूप से डायबिटीज मेलेटस (Diabetes Miletus) के रूप में जाना जाता है। डायबिटीज शब्द एक ग्रीक शब्द है जिसका अर्थ है आगे पहुँचाना, और मेलिटस शब्द एक लैटिन शब्द है जिसका अर्थ है “मीठा” । मधुमेह शब्द 250 ईसा पूर्व से अस्तित्व में है। 1889 में मेरिंग और मिंकोव्स्की ने मधुमेह पैदा करने में अग्न्याशय की भूमिका की खोज की थी। सबसे बड़ी सफलता 1922 में मिली जब बैंटिंग और उनकी टीम ने हार्मोन इंसुलिन की खोज की। उन्होंने सुझाव दिया कि मधुमेह के उपचार में इंसुलिन प्रभावी है।

डायबिटीज क्या है? | What is Diabetes in Hindi

मधुमेह एक मेटाबोलिक डिसऑर्डर (Metabolic disorder) है जिसके परिणामस्वरूप लंबे समय तक रक्त शर्करा का उच्च स्तर होता है। हमारे शरीर का तंत्र हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन को ग्लूकोज (Glucose) मे तब्दील कर देता है। ग्लूकोज रक्तप्रवाह (blood stream) में प्रवेश करता है। शरीर की कोशिकाएं (cells) रक्तप्रवाह से ग्लूकोज को अवशोषित (absorb) करती हैं। कोशिकाएं रक्त शर्करा (blood sugar) का उपयोग ऊर्जा के लिए करती हैं।

इंसुलिन (Insulin) एक हार्मोन है जो रक्त शर्करा के स्तर और शरीर की कोशिकाओं में उनके अवशोषण को नियंत्रित करता है। अग्न्याशय (Pancreas) की बीटा कोशिकाएं इंसुलिन का उत्पादन करती हैं।

जब शरीर इंसुलिन के लिए प्रतिरोधी (Insulin resistance) हो जाता है या यदि इंसुलिन का उत्पादन कम हो जाता है (Insulin deficiency), तो रक्त शर्करा का स्तर ऊंचा बना रहता है। जिससे कोशिकाओं में ग्लूकोज का अवशोषण भी कम होता है। इससे रक्त में ग्लूकोज का स्तर लंबे समय तक बना रहता है। यह मधुमेह (Diabetes) है।

सामान्य रक्त शर्करा (Normal blood sugar) का स्तर 120 मिलीग्राम / डीएल (mg/dL) है। यदि रक्त शर्करा का स्तर 180 mg/dL से अधिक है तो आप मधुमेह (Diabetes) के रोगी हैं।

सारांश

जब शरीर इंसुलिन प्रतिरोधी हो जाता है या जब इंसुलिन की कमी हो जाती है तो इसका परिणाम मधुमेह होता है।

डायबिटीज के लक्षण | Symptoms of Diabetes in Hindi

शुगर रोगी या मधुमेह रोगी (Diabetes patient) के लक्षण हमेशा स्पष्ट नहीं होते हैं। बहुत से लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होती है कि उन्हें मधुमेह है। एहि वजह है की कई डायबिटीज के मरीज़ों को बाद मे पता चलता है की उन्हें डायबिटीज थी | दुनिया भर में 2 में से 1 (232 मिलियन) लोगों को मधुमेह के लक्षण स्पष्ट नहीं होने के कारण निदान नहीं किया गया था।

डॉक्टर्स के मुताबिक कई बार डायबिटीज के लक्षण आपको अस्वस्थ महसूस नहीं कराते हैं। जिसके कारण रोग का पता नहीं चलता है और निदान नहीं किया जाता है। लेकिन प्रमुख लक्षण जो इंगित करते हैं कि आपको मधुमेह है:

  • आप विशेष रूप से दिन में खाना खाने के बाद थकान महसूस करते हैं
  • खाने की आपकी इच्छा और बढ़ जाती है  विशेष रूप से खाना खाने के बाद बढ़ जाना
  • आपको बार-बार पेशाब करने का अनुभव होता है, खासकर रात के समय।
  • असामान्य प्यास लगना।
  • धुंधली दृष्टि होना, या धुंदला दिखना |
  • घाव धीरे धीरे भरते है | जब आप घाव देखते हैं जो धीरे-धीरे ठीक हो रहे हैं यह रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण होता है।
  • त्वचा पर संक्रमण
  • अचानक वजन कम होना
  • बार-बार संक्रमण हो जाना
  • हाथ या पैर में सुन्नपन या झुनझुनी का महसूस होना

यदि आप इनमें से किसी भी लक्षण को नोटिस करते हैं तो उन्हें अनदेखा न करें बल्कि नजदीकी स्वास्थ्य विशेषज्ञ से मिलें और अपने स्वास्थ्य के बारे में सलाह लें। ऐसे लक्षणों को नजरअंदाज करना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

सारांश

मधुमेह के लक्षण स्पष्ट नहीं हैं। मधुमेह के प्रमुख लक्षण असामान्य रूप से प्यास लगना, पेशाब करने की इच्छा महसूस होना और भूख का बढ़ना है।

डायबिटीज के प्रकार और इसके कारण | Types & Causes of Diabetes in Hindi

डायबिटीज मेलेटस के प्रकार और इसके कारण हैं:

टाइप 1 डायबिटीज (Type- 1 diabetes): यह मधुमेह (Diabetes) बच्चों में अधिक आम है। शरीर में इंसुलिन की कमी से टाइप 1 मधुमेह होता है। कमी अग्न्याशय के कारण आवश्यक इंसुलिन की मात्रा बनाने में असमर्थ होने के कारण होती है। हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली अग्न्याशय (Pancreas) की बीटा कोशिकाओं (Beta cells) पर हमला करती है। नतीजतन, वे पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने में विफल होते हैं। और इन्सुलिन की कमी होजाती है | जिससे ग्लूकोज का स्तर ऊंचा बना रहता है।

कारण: टाइप 1 मधुमेह (Type- 1 diabetes) आनुवंशिक भिन्नता (genetic variations) के कारण होता है। शोध से पता चला है कि HLA-DQA1, HLA-DQB1, HLA-DRB1 जीन (genes) में बदलाव से ऑटो-इम्यून सिस्टम (auto-immune system) में गड़बड़ी होती है। यह एक ऑटो-प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करता है जो गलती से अग्न्याशय (pancreas) के इंसुलिन-उत्पादक बीटा कोशिकाओं (beta cells) पर हमला करता है। इससे इंसुलिन की कमी हो जाती है। मधुमेह के अन्य कारण जीवाणु और वायरल संक्रमण  (viral infection) हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करते हैं।

टाइप 2 डायबिटीज (Type- 1 diabetes): यह तब होता है जब शरीर इंसुलिन के प्रति प्रतिरोधी (insulin resistance) हो जाता है। इंसुलिन प्रतिरोध के कारण, शरीर की कोशिकाएं रक्त शर्करा को ठीक से अवशोषित करने में विफल हो जाती हैं। इसके परिणामस्वरूप उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है। एक उच्च रक्त शर्करा का स्तर अग्न्याशय बीटा कोशिकाओं को अधिक इंसुलिन का उत्पादन करने का संकेत देता है। जिसके कारण वे कमजोर हो जाते हैं और अंत में पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाते हैं।

कारण: मोटापा, एक निष्क्रिय जीवन शैली जीवन शैली और आनुवंशिक कारक टाइप 2 मधुमेह के प्रमुख कारण हैं। भारी वजन के कारण अग्न्याशय बीटा कोशिकाएं कमजोर हो जाती हैं और अधिक ग्लूकोज का उत्पादन करने में असमर्थ होती हैं।

गर्भकालीन मधुमेह (Gestational Diabetes): यह गर्भावस्था के दौरान होती है। यह बच्चे के जन्म के बाद सही हो जाती है| लेकिन जो महिलाएं गर्भावधि मधुमेह से पीड़ित हैं, उनके जीवन में बाद में टाइप 2 मधुमेह होना काफी संभव है।

कारण: गर्भावस्था के दौरान असामान्य वजन बढ़ना, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome) इसका प्रमुख कारण है।

MODY (मैच्योरिटी -ऑनसेट डायबिटीज ऑफ़ दा यंग): यह युवाओं की मैच्योरिटी-शुरुआत मधुमेह है। यह मधुमेह का दुर्लभ रूप है। यह 25 साल की उम्र से पहले होता है। यह MODY मधुमेह टाइप 2 मधुमेह के समान है लेकिन 25 वर्ष से कम उम्र में होता है और टाइप 1 मधुमेह से अलग होता है। यह रोग शरीर की इंसुलिन का उत्पादन करने की क्षमता को सीमित करता है, और इस प्रकार रक्त शर्करा का स्तर अधिक होता है। यह आमतौर पर सामान्य वजन वाले लोगों में होता है और इस प्रकार यह मधुमेह का सबसे दुर्लभ रूप है।

कारण: यह वंशानुगत कारकों और आनुवंशिक विविधताओं (hereditary factors and genetic variations) के कारण होता है।

इसको भी पढ़े: डायबिटीज के कारण 

सारांश

आनुवंशिक भिन्नताएं, वजन बढ़ने के कारण बीटा कोशिकाओं की क्षति, मोटापा और एक निष्क्रिय जीवन शैली मधुमेह के प्रमुख कारण हैं।

डायबिटीज के निदान | Diagnosis of Diabetes in Hindi

मधुमेह के निदान (Diabetes Diagnosis) के लिए निम्नलिखित परीक्षणों(tests) का उपयोग किया जाता है:

फास्टिंग  ब्लड  शुगर  टेस्ट (Fasting blood sugar test): यह परीक्षण रात भर के उपवास के बाद आमतौर पर सुबह जल्दी किया जाता है। आपको इस परीक्षण के लिए कम से कम 8 घंटे बिना खाए-पिए रहना चाहिए था। यह उपवास के बाद आपके रक्त में मौजूद ग्लूकोज की मात्रा को मापता है।

इस परीक्षण के आउटपुट (output) की व्याख्या (interpretation) इस प्रकार की जा सकती है:

यदि रक्त शर्करा (blood sugar levels) का स्तर है:-

  • 99 मिलीग्राम/डीएल (mg/dL) से कम या उसके बराबर – तो यह सामान्य स्थिति (Normal) है और आपको मधुमेह नहीं है।
  • 100 से 125 mg/dL- यह प्रीडायबिटीज (prediabetes) की स्थिति है।
  • 126 mg/dL से ऊपर- यह दर्शाता है कि आपको मधुमेह (diabetes) है|

इसको भी पढ़े: शुगर लेवल चार्ट

रैंडम  ब्लड  शुगर  टेस्ट (Random Blood Sugar Test): यह परीक्षण किसी भी समय किया जा सकता है। जब भी संभव हो रक्त का नमूना लिया जा सकता है। यह आपके परीक्षण के समय रक्त शर्करा के स्तर को मापता है।

इस परीक्षण के आउटपुट (output) की व्याख्या (interpretation) इस प्रकार की जा सकती है:

  • यदि रक्त शर्करा (blood sugar levels) का स्तर है:- 200 mg/dL – है तो आपको मधुमेह (diabetes) है|

ओरल ग्लूकोस  टॉलरेंस  टेस्ट (Oral Glucose Tolerance Test): यह रक्त परीक्षण दो रक्त नमूनों की जांच करता है। कम से कम 8 घंटे के उपवास के बाद सबसे पहले रक्त का नमूना लिया जाता है। फिर आपको टेस्ट के बाद ग्लूकोज का लिक्विड ड्रिंक दिया जाता है। पेय के 1 या 2 घंटे के बाद, माप के लिए फिर से रक्त का नमूना लिया जाता है।

इस परीक्षण के आउटपुट (output) की व्याख्या (interpretation) इस प्रकार की जा सकती है:

यदि रक्त शर्करा (blood sugar levels) का स्तर है:-

  • 140 मिलीग्राम/डीएल (mg/dL) से कम या उसके बराबर – तो यह सामान्य स्थिति (Normal) है और आपको मधुमेह नहीं है।
  • 140 से 199 mg/dL- यह प्रीडायबिटीज (prediabetes) की स्थिति है।
  • 200 mg/dL से ऊपर- यह दर्शाता है कि आपको मधुमेह (diabetes) है|

हीमोग्लोबिन A1c  (HbA1c) टेस्ट: इस परीक्षण को ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन परीक्षण के रूप में भी जाना जाता है। यह परीक्षण बिना उपवास के किया जा सकता है। यह परीक्षण पिछले 3 महीनों में औसत रक्त शर्करा के स्तर को मापता है। ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन तब होता है जब हीमोग्लोबिन ग्लूकोज से बंध जाता है। मधुमेह के खराब प्रबंधन का संकेत ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन का उच्च स्तर है।

इस परीक्षण के आउटपुट (output) की व्याख्या (interpretation) इस प्रकार की जा सकती है:

  • अगर आपका HbA1C मान 5.7% से कम है- तो यह सामान्य स्थिति है और आपको मधुमेह नहीं है।
  • यदि HbA1C का मान 5.7 और 6.4% के बीच है – तो आप प्रीडायबिटिक हैं,
  • यदि HbA1C का मान 6.5% से अधिक है – इसका अर्थ है कि आपको मधुमेह है।

मधुमेह होने पर यदि आपका HbA1C परीक्षण परिणाम 7% से कम है तो मधुमेह नियंत्रण में है। 9% से ऊपर का मान मधुमेह के खराब प्रबंधन को दर्शाता है।

अनुसंधान ने इस तथ्य को साबित कर दिया है कि जब एक मधुमेह रोगी ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन के स्तर को 7% के करीब रखता है तो वे गुर्दे की विफलता जैसी मधुमेह संबंधी जटिलताओं के जोखिम से बचते हैं।

और अधिक जाने: एचबीए1सी (HbA1c) टेस्ट, चार्ट, मात्रा और नार्मल रेंज | All About HbA1c Test in Hindi

सारांश

अगर आपका फास्टिंग शुगर लेवल 126 mg/dL से ऊपर है या रैंडम टेस्टिंग शुगर लेवल 200 mg/dL से ऊपर है या Hb Alc वैल्यू 6.5% से ऊपर है तो आपको डायबिटीज है। ब्रीद वेल-बीइंग  (Breathe Well-Being) ने कई रोगियों को उनके एचबीए1सी स्तर को 7% से कम नियंत्रित करने में मदद की है और उन्हें स्वस्थ और सुखी जीवन जीने की आशा दी है। मधुमेह की सर्वोत्तम देखभाल और परामर्श के लिए हमारे विशेषज्ञों से परामर्श लें।

डायबिटीज का इलाज | Treatment of Diabetes in Hindi

मधुमेह (Diabetes) के उपचार का लक्ष्य रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तर को नियंत्रित करना और रोगी को सामान्य जीवन में लौटने में मदद करना है।

टाइप 1 मधुमेह उपचार:

  • इंसुलिन सहायता: इसके लिए आम तौर पर इंसुलिन थेरेपी की आवश्यकता होती है। इसमें रोगियों को इंसुलिन इंजेक्शन उनकी ग्लूकोस की मात्रा के अनुसार दिया जाता है|
  • रक्त की निगरानी: प्रत्येक भोजन, या व्यायाम के बाद, या इंसुलिन थेरेपी के बाद रक्त शर्करा के स्तर के परिणाम देखने के लिए बार-बार रक्त की निगरानी आवश्यक है। इसमें ज़रूरी ही की हर काम, खाने या दवाई के बाद खून मई मौजूद ग्लूकोज़ की मात्रा की जाँच करे |टाइप 1 मधुमेह के उपचार में यह आवश्यक है।
  • आहार परिवर्तन: कार्ब्स कम करें, स्वस्थ भोजन और पोषक आहार लें।
  • जीवनशैली में बदलाव: तनाव दूर करने और वजन बनाए रखने के लिए व्यायाम करें।

टाइप 2 मधुमेह उपचार:

  • दवा: रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए, टाइप 2 मधुमेह के उपचार में गैर-इंसुलिन दवाओं की आवश्यकता हो सकती है।
  • आहार परिवर्तन: कम ग्लाइसेमिक भोजन, कम कार्बोहाइड्रेट आहार, कम कैलोरी वाला आहार वजन कम कर सकता है और रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसलिए इस उपचार में आहार नियंत्रण की आवश्यकता होती है।
  • जीवनशैली में बदलाव: मांसपेशियों को मजबूत करने और कोशिकाओं द्वारा ग्लूकोज के अवशोषण को बढ़ाने के लिए शारीरिक गतिविधि, ध्यान आवश्यक हैं। यह रक्त शर्करा के स्तर को कुशलतापूर्वक नियंत्रित करने में मदद करता है।
  • कुछ मामलों में, इंसुलिन थेरेपी की आवश्यकता हो सकती है।

टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह (type 1 and type 2 diabetes) के उपचार के कुछ मामलों में, कीटोन्स के संचय से बचने, गुर्दे की बीमारियों से बचने आदि के लिए डियूरेटिक्स जैसे अतिरिक्त चिकित्सा उपचार की आवश्यकता हो सकती है।

सारांश

मधुमेह के उपचार में आहार और जीवन शैली में परिवर्तन बहुत प्रभावी हैं। इसलिए ब्रीद वेल-बीइंग (Breathe well-Being) एक पूर्ण मधुमेह नियंत्रण आहार, जीवन शैली योजना और एक उचित उपचार की योजना बनाने में आपकी मदद करने के लिए भरोसेमंद नाम है जो आपको अपने मधुमेह को कुशल तरीके से प्रबंधित करने में मदद करेगा। हमारे एक्सपर्ट्स आपको मोटीवेट भी करेंगे और आपकी सेहत मे सुधर मे मदद करेंगे |

वर्ल्ड डायबिटीज डे (मधुमेह दिवस- World Diabetes Day)

मधुमेह और इसके लक्षणों के बारे में जागरूकता बढ़ाना बेहद जरूरी है। दुनिया भर के लोगों में इसके प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए एक विशेष दिन को विश्व मधुमेह दिवस के रूप में मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय मधुमेह महासंघ (International Diabetes Federation ) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) दोनों 1991 में विश्व मधुमेह दिवस के विचार के साथ आए थे। इस दिन का विचार मधुमेह के बारे में जागरूकता कार्यक्रम के साथ दुनिया तक पहुंचना और इस बीमारी से लड़ने के लिए एक साथ आना है।

14 नवंबर को इसलिए चुना गया क्योंकि यह सर फ्रेडरिक बैंटिंग (Sir Frederick Banting) का जन्मदिन है। वह इंसुलिन के सह-खोजकर्ता हैं (1922 में) जो मधुमेह से लड़ने में मदद करता है। फोरम का विचार 1991 में अस्तित्व में आया। लेकिन संयुक्त राष्ट्र ने 2007 में संचार, और उपचार तक पहुंच प्रदान करके जागरूकता बढ़ाने और मानव स्वास्थ्य में सुधार के लिए बहुपक्षीय प्रयासों के महत्व के विचार को अपनाया। इस प्रकार, 2007 में 14 नवंबर संयुक्त राष्ट्र का आधिकारिक विश्व मधुमेह दिवस बन गया।

डायबिटीज  रेवेर्सल (Diabetes Reversal – डायबिटीज  से मुक्ति)

मधुमेह के रोगियों को रोग के प्रबंधन का तनाव महसूस हो सकता है। इस तनाव के कारण स्वास्थ्य खराब हो सकता है। इस प्रकार, मधुमेह से मुक्ति में पहला कदम सकारात्मक होना है और हमेशा ध्यान रखें कि मधुमेह को उलटा किया जा सकता है। यह आपके जीने का तरीका है जो मधुमेह को नियंत्रण और परिस्तिति को उलटने में मदद करेगा।

टाइप 2 मधुमेह (Type- 2 diabetes) एक आजीवन बीमारी है और ऐसा माना जाता है कि इसे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है। लेकिन शोध अध्ययनों के माध्यम से यह पाया गया है कि कुछ रोगियों में स्थिति मधुमेह के बिना अवस्था में उलटी जा सकती है। हाँ, मधुमेह का उत्क्रमण (Diabetes reversal) (परिस्तिति को उलटना) संभव है। ग्लूकोज का स्तर सामान्य (normal) हो सकता है और इंसुलिन संवेदनशीलता (insulin sensitivity) में सुधार किया जा सकता है। इसे मधुमेह उत्क्रमण (Diabetes reversal- डायबिटीज  रेवेर्सल) के रूप में जाना जाता है।

डायबिटीज  रेवेर्सल ((Diabetes reversal) होना एक ऐसी स्थिति है जब रोगी मधुमेह की दवा नहीं ले रहा होता है और साथ ही साथ इंसुलिन संवेदनशीलता (insulin sensitivity)  में लंबे समय तक महत्वपूर्ण सुधार होता है और HbA1c का स्तर 42mmol/mol यानी 6% से नीचे होता है।

याद रखें कि मधुमेह का नियंत्रण और डायबिटीज  रेवेर्सल (Diabetes reversal) एक प्रक्रिया है और यह चरणों में चलती है। प्रत्येक चरण में समय लगता है। यह एक सहज प्रक्रिया नहीं है। किसी भी प्रकार का तनाव उत्क्रमण प्रक्रिया को सीमित कर सकता है। मधुमेह से मुक्ति या मुक्ति की कुंजी इस प्रकार है:

  • दवा: इंसुलिन नियंत्रण सुनिश्चित करने के लिए उचित उपचार और दवा का पालन करना।
  • आहार योजना: उचित आहार योजना का पालन करना
  • व्यायाम: वजन बढ़ाने को नियंत्रित करने और स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा देने के लिए नियमित व्यायाम करना।
  • ध्यान: सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने और आंतरिक परिवर्तन में मदद करने के लिए।

डायबिटीज प्रबंधन के लिए दिशानिर्देश | Guidelines For Diabetes Management in Hindi

आप कैसे जानते हैं कि आपका मधुमेह नियंत्रण में है? मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए दिशानिर्देश यहां दिए गए हैं:

  • ग्लूकोमीटर का उपयोग करके अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें। यह उपकरण रक्त शर्करा के स्तर का परीक्षण करता है। डिवाइस के परिणामों का उपयोग मोबाइल फोन के माध्यम से किया जा सकता है। यह आपके परीक्षा परिणामों की निगरानी करने और आपका मार्गदर्शन करने में आपकी सहायता कर सकता है।
  • प्रत्येक भोजन या भारी व्यायाम के बाद रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें
  • हर 3 महीने में एक बार एचबीए1सी (HbA1c) रक्त परीक्षण करवाएं। यह आपको ब्योरा देगा कि आपने अपने मधुमेह को कितनी अच्छी तरह प्रबंधित किया। इसलिए इस रक्त परीक्षण में कभी देरी न करें।
  • अच्छा स्वास्थ्य दिनचर्या और आहार नियंत्रण बनाए रखें।
  • अगर आपको लगता है कि आपका वजन बढ़ रहा है, और आपके मूड में अचानक बदलाव आ रहा है, तो डॉक्टर से मिलें।
  • बीमारी को लेकर अपने आसपास कभी भी नकारात्मकता और तनाव न आने दें। आहार में बदलाव, जीवनशैली में बदलाव और मधुमेह नियंत्रण कार्यक्रमों के माध्यम से मधुमेह को उलटना संभव है।

अतं मै

अधिक प्रभावी डायबिटीज उपचार के लिए शोधकर्ता अपना बहुमूल्य समय दे रहे हैं। डायबिटीज को एक लाइलाज बीमारी माना जाता था मगर आज साइंस की तरक्की ने यह साबित किआ है की डायबिटीज का नियंत्रण और इलाज संभव है | यह शोधकर्ताओ के प्रयास के कारण ही आज टाइप 2 मधुमेह को सर्वोत्तम सीमा तक उलटा जा सकता है। प्रौद्योगिकी में प्रयास जारी हैं जैसे बीटा कोशिकाओं का पुनर्जनन, बीटा कोशिकाओं का प्रत्यारोपण, इंसुलिन प्रतिक्रिया को ट्रिगर करने के लिए एक नई दवा, आदि। विज्ञान को अपना जादू करने दें, लेकिन यह आपका सकारात्मक दृष्टिकोण है जो अंतर ला सकता है। ज़रूरी है की अपने आप को मोटिवेटेड रखे और सही आहार, सही व्यायाम, सही दवाई और सही सलहा से डायबिटीज को नियंत्रण करे |

ब्रीद वेल-बीइंग (Breathe Well- Being) के कई साल के अनुभव मे पाया है की सही सोच और सही इलाज की योजना डायबिटीज को नियंत्रित और रिवर्स करने मे मदद करती है| हमारे कई डायबिटीज रोगियों को आज स्वस्त जीवन गुजरने का मौका मिल रहा है यह उनके प्रयास का और हमारे एक्सपर्ट्स की कोशिशों का नतीजा है | हमारे डायटीशियन (Dietician), एंड्रोक्रोनोलॉजिस्ट (Endocrinologists), डियाबेटोलॉजिस्ट (Diabetologist) मिल कर  हर मरीज़ के लिए एक इलाज की योजना बनाते है | इस योजना का सही पालन डायबिटीज को मात देने मे मदद करता है और दूसरी बिमारिओ की जटिलताओ से बचता है|

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल 

पीपी (PP) ब्लड शुगर क्या है?

पीपी (PP) शब्द पोस्ट प्रांडियल (Post Prandial) से आया है। इस शब्द का अर्थ है भोजन के बाद। इस प्रकार, पीपी रक्त शर्करा खाने के बाद रक्त शर्करा के स्तर का माप है। खाने के बाद 140 mg/dL (7.8 mmol/L) से कम रक्त शर्करा का स्तर सामान्य (Normal level) है।

मधुमेह (डायबिटीज) आहार योजना (डाइट प्लान) के साथ वजन कम कैसे करें ?

मधुमेह आहार योजना (डायबिटीज डाइट प्लान) के साथ वजन कम करने के लिए आपको अपने कार्बोहाइड्रेट सेवन को नियंत्रित करना चाहिए, अधिक फाइबर युक्त भोजन खाना चाहिए, लीं प्रोटीन भोजन लेना चाहिए, हरी पत्तेदार सब्जियां, कम संसाधित कार्बो भोजन, कम वसा वाले डेयरी उत्पाद और वनस्पति आधारित स्वस्थ तेल जैसे जैतून का तेल, कैनोला तेल आदि। नियमित रूप से व्यायाम करें और खूब पानी पिएं।

क्या hba1c टेस्ट के लिए उपवास जरूरी है?

HbA1c (हीमोग्लोबिन A1c) मधुमेह के निदान के लिए एक बहुत ही प्रभावी परीक्षण है। परीक्षण से पहले उपवास करने की कोई आवश्यकता नहीं है। टेस्ट करवाने से पहले आप खा-पी सकते हैं।

क्या मेरे गर्भकालीन मधुमेह के पूरी तरह से ठीक होने के बाद मुझे मधुमेह हो सकता है?

गर्भावधि मधुमेह के पूर्ण इलाज के बावजूद महिलाओं को टाइप 2 मधुमेह होने का अधिक खतरा होता है। इसलिए आपको एक स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखनी चाहिए और गर्भावस्था के बाद वजन बढ़ाने के प्रबंधन के लिए आहार पर नियंत्रण रखना चाहिए।

मधुमेह में मुझे कितनी बार अपने रक्त शर्करा की जांच करनी चाहिए?

अगर आपको टाइप 1 डायबिटीज है तो खाना खाने के बाद ब्लड ग्लूकोज जरूर चेक करें। वाहन चलाने से पहले, भारी व्यायाम या काम के बाद रक्त शर्करा के स्तर की जाँच करना भी अच्छा है। टाइप 2 डायबिटीज के लिए दिन में एक बार चेकअप करना अच्छा रहेगा। लेकिन फिर सब कुछ आपके स्वास्थ्य की स्थिति पर निर्भर करता है।

क्या मैं जितना चाहूं शुगर-फ्री उत्पाद खा सकता हूं?

कई शुगर-फ्री उत्पादों में अच्छी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होते हैं और कैलोरी काउंट से भरपूर होते हैं। इसलिए अगर आप डायबिटिक हैं तो इन उत्पादों का सेवन कम मात्रा में करें।

सन्दर्भ

  1. Diabetes Tests. Retrieved from: https://www.cdc.gov/diabetes/basics/getting-tested.html
  2. Countries with the highest number of diabetics worldwide in 2019. Retrieved from: https://www.statista.com/statistics/281082/countries-with-highest-number-of-diabetics/#:~:text=China%20is%20the%20country%20with,134%20million%20people%20with%20diabetes.
  3. Sapra, A., & Bhandari, P. (2021). Diabetes Mellitus. Retrieved from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK551501/

Last Updated on by Dr. Damanjit Duggal 

Disclaimer

The information included at this site is for educational purposes only and is not intended to be a substitute for medical treatment by a healthcare professional. Because of unique individual needs, the reader should consult their physician to determine the appropriateness of the information for the reader’s situation.

Leave a Reply

Lower Your Blood Sugar Levels Naturally!

₹ 500 | ₹ 100
BOOK A CONSULTATION
X