डायबिटीज (शुगर) का होम्योपैथिक इलाज | Homeopathic Medicine For Diabetes in Hindi

मधुमेह (Diabetes) किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है | यह एक ज़िन्दगी भर चलने वाली बिमारी  है जिसमें आपके रक्त शर्करा (blood sugar) का स्तर नार्मल से ऊंचा हो जाता है। इस बिमारी को प्रबंधित करना कठिन लग सकता है मगर हज़ारो मधुमेह से प्रभावित लोगो ने  एक अच्छी जीवन शैली, व्यायम, सही डाइट प्लान को पालन कर के इस बीमारी से जीत हासिल की है| उन्होने अपने रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य स्तर पर लाने के लिए कुछ दवाओं की भी आवश्यकता हो सकती है। अधिकांश मधुमेह रोगी अक्सर एलोपैथिक दवा का विकल्प चुनते हैं। हालांकि होम्योपैथी मधुमेह के इलाज में भी फायदेमंद हो सकती है। मधुमेह के उपचार के साथ होम्योपैथिक दवा के बारे में जानने के लिए इस ब्लॉग को पढ़ें।

Table of Contents

मधुमेह का संक्षिप्त विवरण

डायबिटीज मेलिटस (Diabetes Mellitus) या मधुमेह दुनिया भर में एक आम बीमारी है। यह एक मेटाबोलिक डिसऑर्डर (metabolic disorder) है जिसमे खून मे मौजूद ग्लूकोस की मात्रा बढ़ जाती है | मधुमेह की देखभाल महत्वपूर्ण है क्योंकि रक्त शर्करा ( blood sugar) के स्तर में वृधि आपके शरीर के विभिन्न अंगों के कामकाज को प्रभावित करती है। मधुमेह आपकी आंखों, हृदय, यकृत, पैरों और गुर्दे को प्रभावित कर सकती है। इसके साथ ही मधुमेह से अनिद्रा, तनाव, तंद्रा, रक्तचाप में उतार-चढ़ाव आदि जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

हमारे शरीर मे मौजूद इन्सुलिन (insulin)  ब्लड ग्लूकोस (blood glucose) को शरीर के कोशिकायों को तक पहुँचता है जिससे शरीर मे ऊर्जा पैदा होती है इन्सुलिन की कमी या इन्सुलिन रेजिस्टेंस के कारण ब्लड ग्लूकोस की मात्रा अधिक हो जाती है | अतः शरीर में इंसुलिन (insulin) का अपर्याप्त या उत्पादन नहीं होने के कारण व्यक्ति को मधुमेह( diabetes) हो जाता है।

मधुमेह के इलाज में मदद करने वाले प्राथमिक दृष्टिकोण में जीवनशैली में बदलाव और दवाएं (एलोपैथिक, होम्योपैथिक, या हर्बल) शामिल हैं। डायबिटीज रिवर्सल मेथड (Diabetes Reversal Method )  मधुमेह के हजारों रोगियों के लिए फायदेमंद साबित हुई है। यह ब्लॉग मधुमेह के लिए शीर्ष 10 होम्योपैथिक दवाओं के बारे में बताएगा।

मधुमेह के लक्षण

मधुमेह (Diabetes) के कई मामलों में, शुरुआत में कोई लक्षण नहीं होते हैं। हालांकि, ऐसे मधुमेह रोगी धीरे-धीरे जटिलताओं का अनुभव करने लगते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप नियमित रूप से अपने ब्लड शुगर (blood sugar) की जांच कराएं। मधुमेह के सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • थकान
  • मतली
  • बार-बार पेशाब आना
  • प्यास और भूख में वृधि
  • वजन घटना
  • धुंधली दृष्टि (निगाह कमज़ोर होना)

मधुमेह का होम्योपैथिक इलाज | Homeopathic Treatment of Diabetes in Hindi

मधुमेह (Diabetes) में शरीर के विभिन्न अंगों में गंभीर जटिलताएं पैदा करने की प्रवृत्ति होती है। मधुमेह के लिए होम्योपैथिक (homeopathic) उपचार एक समग्र दृष्टिकोण सुनिश्चित  (holistic approach) करता है। यह मधुमेह के इलाज के लिए एक गैर-पारंपरिक चिकित्सा है। आम तौर पर, रोगी का एक लंबा और गहन शारीरिक और मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन उपयुक्त दवा लिखने में मदद करता है। हालांकि, मधुमेह का शायद ही कोई अन्य उपचार इन मूल्यांकनों पर विचार करता हो। होम्योपैथी का उपचार रोगी के स्वस्थ की जानकारी पर निर्भर करता है।

मधुमेह का होम्योपैथिक उपचार

मधुमेह के इलाज में होम्योपैथी के कार्य

होमियोपैथी अनुसार हमारे शरीर में मौजूद ऊर्जा एक बल पैदा करती है जो हमे सवस्त रखता है | यह बल आपके शरीर की ताक़त को बनाये रखता है और जीवन को सही ढंग से जीने में मदद करता है । यह बीमार को बिमारी से लड़ने में मदद करता है। जब इस बल मे संतुलन बिगाड़ जाता है तो शरीर की बीमारी से लड़ने की क्षमता कमज़ोर होती है और इंसान बीमार पढ़ता है और मरीज़ दिन बा दिन कमज़ोर होता जाता हैं।  होम्योपैथी के अनुसार, एक रोग जीवन शक्ति में व्यवधान का प्रतिबिंब  (reflection of disruption to the vital force) है | होम्योपैथी पद्धति में रोगी की व्यक्तिवादी विशेषताओं को समझ कर उपचार किया जाता है।

मधुमेह(dibaetes)  मे शरीर मे मौजूद इन्सुलिन की मात्रा कम हो जाती है जिसके कारण ब्लड ग्लूओंसे की मात्रा बढ़ जाती है | मधुमेह  आनुवंशिक कारकों या परिवर्तित प्रतिरक्षा (genetic factors or altered immunity) जैसी समस्याओं का परिणाम है। इसे उपचार के लिए एक समग्र दृष्टिकोण (holistic approach) की आवश्यकता है।

होम्योपैथी : मधुमेह रोगियों के लिए यह तुरंत का माध्यम नहीं

यदि आप तत्काल चिकित्सा की तलाश में हैं या अपने रक्त शर्करा ( blood sugar) के स्तर को तुरंत नियंत्रित करना चाहते हैं, तो होम्योपैथी उपचार चुनना एक अच्छा विचार नहीं है। होम्योपैथी उपचार को आपकी स्वास्थ्य स्थिति पर प्रभाव दिखाने के लिए कुछ समय चाहिए। मधुमेह (diabetes) को पूरी तरह से ठीक होने में लंबा समय लग सकता है। ऐसे मामलों में होम्योपैथी उपचार मधुमेह की जटिलताओं को रोकने में मदद करता हैं। आप कुछ हफ्तों से लेकर कुछ महीनों में परिणाम देखने की उम्मीद कर सकते हैं। यदि आप त्वरित परिणामों की अपेक्षा कर रहे हैं, तो आप पारंपरिक दवाओं के पूरक के रूप में होम्योपैथी दवाओं का उपयोग कर सकते हैं या होम्योपैथी दवाओं और मधुमेह उत्क्रमण कार्यक्रम को एक साथ जोड़ सकते हैं ताकि मधुमेह उत्क्रमण चिकित्सा में तेजी लाई जा सके।

मधुमेह के लिए होम्योपैथिक उपचार | Homeopathic Remedies For  Diabetes in Hindi

होम्योपैथी उपचार प्राकृतिक हैं क्योंकि इस पद्धति में खनिजों, पौधों और जानवरों (minerals, plants, and animals) के अर्क का इस्तेमाल करके दवायेबनती हैं। होम्योपैथी सिद्धांत के अनुसार, किसी पदार्थ के तनु रूप में उसकी अधिकांश चिकित्सीय शक्ति होती है। इसलिए, डॉक्टर मधुमेह के रोगियों को अधिकांश होम्योपैथी दवाओं को को घुलने (dilution)  के बाद इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। होम्योपैथी उपचार के लिए प्राकृतिक पदार्थ घुलने (dilution)  की प्रक्रिया से गुजरता है जब तक कि इसमें मूल प्राकृतिक पदार्थ का केवल एक अंश न हो। उसके बाद, आपको विभिन्न पदार्थों के सांद्रण से निम्नलिखित प्राप्त होते हैं:

  • टैबलेट (Tablet)
  • तेल (Oil)
  • मलहम (Ointment)
  • शुगर पैलेट (Sugar Pallets)
  • बूँदें (Drops)
  • क्रीम (Creams)

मधुमेह के लिए शीर्ष 10 होम्योपैथिक दवाये | Homeopathic Medicine For Diabetes in Hindi

सारांश

होम्योपैथी में मधुमेह के लक्षणों के उपचार के लिए कई दवाएं उपलब्ध हैं। इसलिए, ऐसी दवाएं लेने से आप स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं और मधुमेह के कारण होने वाली जटिलताओं से छुटकारा पा सकते हैं। हालांकि, मधुमेह के रोगियों को इन दवाओं का सेवन करने से पहले अपने होम्योपैथिक डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। ऐसी दवाएं सुरक्षित हैं लेकिन, आपको उन्हें सही खुराक में ही लेनी चाहिए।

होम्योपैथी दवाएं मधुमेह टाइप-1 और टाइप-2 के लिए सहायक हैं। हालांकि, होम्योपैथी में इंसुलिन (insulin) का कोई विकल्प नहीं है। लेकिन, होम्योपैथिक उपचार मधुमेह रोगियों के चयापचय पहलू को पोषण और चिकित्सीय (nutritional and therapeutic measures) दोनों उपायों के साथ प्रबंधित करने में मदद करता है। होम्योपैथी उपचार में इस बात का ध्यान रखा जाता है कि किसी भी दो मधुमेह रोगियों को एक जैसी दवाई ना दी जाये क्योकि प्रत्येक रोगी की एक अलग तरह की समस्या होती है, इसलिए सभी दवाएं सभी मधुमेह रोगियों के लिए उपयुक्त नहीं होती हैं। होम्योपैथिक इलाज कई कारण ऐसे लोग हैं जो डायबिटीज रिवर्सल मेथड को चुनने के बाद इंसुलिन का सेवन बंद कर देते हैं। बड़ी संख्या में रोगियों को अब दवा की आवश्यकता नहीं है, जबकि अन्य अपनी दवाओं को 70% या अधिक तक कम करने में सक्षम थे।

मधुमेह विशेषज्ञ के साथ अपना परामर्श अभी बुक करें।

हमारे मधुमेह विशेषज्ञ जीवन शैली को बदलने में सहायता करते हैं और भावनात्मक मुद्दों से निपटते हैं जो यह स्थिति ला सकते हैं। इंटरकनेक्टेड तकनीक और मानव स्पर्श के अनूठे मिश्रण के साथ, आप पूरे दिन हमारे मधुमेह-केंद्रित समग्र समर्थन से जुड़े रहेंगे।

अब्रोमा ऑगस्टा (Abroma Augusta)

यह होम्योपैथी में सबसे लोकप्रिय मधुमेह की दवा है। डॉक्टर ऐसे मधुमेह  रोगियों को अब्रोमा ऑगस्टा लेने की सलाह देते हैं जो मांसपेशियों के वजन में कमी के कारण अत्यधिक कमजोरी महसूस करते हैं।

जबकि चलना अत्यंत महत्वपूर्ण है, मांसपेशियों के निर्माण के व्यायाम आपके मधुमेह को  ठीक करने में मदद करते हैं।

डाइट कोच के साथ एक पर्सनल फिटनेस कोच आपको एक संपूर्ण कसरत आहार और डाइट चार्ट प्रदान करके, आपके शरीर की आवश्यकताओं के अनुसार अनुकूलित और आपकी दैनिक दिनचर्या से छेड़छाड़ किए बिना मांसपेशियों का वजन बढ़ाने में मदद कर सकता है। मुंह में सूखापन, बार-बार पेशाब आना और भूख में वृधि के साथ प्यास लगने वाले रोगियों के लिए भी यह फायदेमंद है। मधुमेह के कई रोगी उच्च रक्त शर्करा के स्तर के कारण भी नींद न आने की समस्या से पीड़ित होते हैं। अब्रोमा ऑगस्टा उनके लिए भी मददगार है।

homeopathic remedies for diabetes hindi

जंबोलनम या एस. क्यूमिनी (काली बेर) (Jambolanum Or S. Cumini ) (Black Plum)

यह सबसे अच्छी होम्योपैथिक दवा है जो रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करती है। यह मधुमेह के लक्षणों जैसे प्यास, कमजोरी और अत्यधिक पेशाब का इलाज करती है। अपने रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य बनाए रखने के लिए उचित अंतराल पर इस दवा का सेवन करें। यह मूत्र में शर्करा को कम करने और मधुमेह से संबंधित त्वचा के पुराने अल्सर का इलाज करने में मदद करती है। आपको हर भोजन से 10 मिनट पहले, आधा गिलास पानी में साइज़ियम जंबोलानम मदर टिंचर की 15 बूंदें लेने की जरूरत है।

homeopathic medicine for sugar

यूरेनियम नाइट्रिकम (Uranium Nitricum)

यह मधुमेह के लिए एक प्रमुख मूत्रवर्धक होम्योपैथिक उपचार है। यह रक्त शर्करा के स्तर में वृधि के कारण पेशाब की असंयम, एन्यूरिसिस और मूत्रमार्ग में जलन ( incontinence of urine, enuresis, and burning ) के साथ पेशाब का इलाज करने में मदद करता है। यूरेनियम नाइट्रिकम उच्च रक्त शर्करा के स्तर, उच्च रक्तचाप और फैटी लीवर की स्थिति के इलाज में मदद करती है। डॉक्टर की सलाह के बाद ही यूरेनियम नाइट्रिकम की खुराक लें। अपने खाने और सोने की आदतों में बदलाव करना भी आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए अद्भुत काम कर सकता है। लाइफस्टाइल कोच से नियमित फॉलो-अप आपको अपने लक्ष्य को तेजी से प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

homeopathic medicine for high blood sugar in hindi

कोनियम (Conium)

कोनियम उच्च रक्त शर्करा के स्तर के कारण पैरों और हाथों की सुन्नता और तंत्रिका क्षति का उपचार करता है। यह आपके शरीर के निचले हिस्से में मांसपेशियों की कमजोरी का भी इलाज करता है। कोनियम को जहरीला हेमलॉक (poisonous hemlock)  भी कहा जाता है। यह अत्यधिक विषैला होता है। यद्यपि कोनियम शरीर के बौद्धिक भाग को प्रभावित नहीं करता है, यह रीढ़ की हड्डी पर कमजोर रूप से कार्य करता है। इसलिए, यह उच्च ग्लूकोज के स्तर के कारण न्यूरोमस्कुलर समस्याओं (neuromuscular problems) के इलाज में मदद करता है। यह बेहतर नींद को बढ़ावा देता है और न्यूरोपैथी के कारण होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।

homeopathy for diabetes

फॉस्फोरिक अम्ल ( Phosphoric Acid)

फॉस्फोरिक एसिड मधुमेह के इलाज के लिए एक और प्राकृतिक होम्योपैथिक दवा है। आम तौर पर ये  रोगियों को बार-बार पेशाब आने पर दी जाती है। होम्योपैथिक डॉक्टर फॉस्फोरिक एसिड के इस्तेमाल करने की सलाह बीमार  को उसकी हालत देख कर देते हैं। इसके साथ ही अगर पेशाब का रंग दूधिया है तो यह पेशाब में शुगर की मात्रा ज्यादा होने के  संकेत देता है। प्राथमिक अवस्था में होने पर फॉस्फोरिक एसिड मधुमेह का उपचार  का अच्छा विकल्प है।

homeopathic medicine for diabetes type 2 in hindi

फास्फोरस (Phosphorus)

फास्फोरस उच्च रक्त शर्करा के स्तर और अग्नाशय के रोगों, विशेष रूप से तपेदिक (pancreatic diseases, especially tuberculosis) के रोगियों के लिए उपयुक्त दवा है। मधुमेह के रोगियों में शुष्क मुँह, बेचैनी और पानी वाला मल जैसे लक्षण  पाए जाते हैं और ऐसे रोगी फास्फोरस से लाभ प्राप्त करते हैं।

homeopathic medicine for diabetes type 1

अर्जेंटम मेटालिकम (Argentum Metallicum)

बार-बार और अधिक पेशाब आने से पीड़ित मधुमेह के रोगियों को डॉक्टर अर्जेंटम मेटालिकम लेने की सलाह देते हैं। जिन  शुगर के मरीजों का  अनजाने (unconsciously ) में पेशाब निकल जाता हैं, उन्हें भी अर्जेंटम मेटालिकम लेने से आराम मिलता है। इस दवा को आधा कप पानी में पांच बूंद दिन में तीन बार लें। यह  दवा चिकित्सक के निर्देशानुसार हि इस्तेमाल करनी चाहिए।

homeopathic remedies for diabetes in hindi

नैट्रम फॉस 3x (Natrum Phos 3x)

नेट्रम फॉस 3x (Natrum Phos 3x) मधुमेह रोगियों के लिए एक और होम्योपैथी उपचार है। यह पाचन विकारों (digestive disorders) का इलाज करने में मदद करता है और इस तरह रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। मधुमेह रोगियों के लिए अन्य होम्योपैथिक उपचारों के साथ नेट्रम फॉस 3x (Natrum Phos 3x)  का भी सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता  है। यह बायोकेमिकल टैबलेट के रूप में उपलब्ध है। स्वस्थ खाने की आदतों का पालन करके और अपने रसोई घर में आसानी से उपलब्ध पौष्टिक भोजन का सेवन करके पाचन विकारों (digestive disorders) को दूर किया जा सकता है। पर्सनल डाइट कोच एक आहार चार्ट तैयार करने में  आपकी मदद करता है जिसमें मुख्य भोजन शामिल होता है और लगातार निगरानी करता है और आपको प्रेरित करता है।

sugar ki homeopathic medicine

सेफलैंड्रा इंडिका (Cephalandra Indica)

मधुमेह रोगियों के लिए सेफलैंड्रा इंडिका एक और लाभकारी होम्योपैथिक उपचार है। यह रक्त यूरिया का उपचार करता है और रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन करता है। मधुमेह के रोगी जो मधुमेह के लक्षणों के प्रतिकूल प्रभावों से पीड़ित हैं, वे राहत के लिए इस दवा का सेवन कर सकते हैं। हालांकि, मधुमेह के लक्षणों से राहत देने वाले लक्षण दिखने में कुछ समय लग सकता है। यह डिटॉक्सिफायर (detoxifier) का काम करता है और किडनी की बीमारियों से भी छुटकारा दिलाता है। अपने डाइट प्लान में डिटॉक्सिफाइंग स्मूदी को शामिल करने से डायबिटीज रिवर्सल की प्रक्रिया को बढ़ावा मिल सकता है।

sugar ka homeopathic dawa

नैट्रम मुरी (Natrum Mur)

उच्च रक्त शर्करा भी आपके शरीर के तरल पदार्थों के असंतुलन का परिणाम है। नेट्रम मुर आपके शरीर में एक स्वस्थ संतुलन को बढ़ावा देने और बनाए रखने में मदद करता है। इसलिए, आपके गुर्दे आपके शरीर से अतिरिक्त ग्लूकोज को बाहर निकालने के लिए सुचारू रूप से काम करते हैं, जिससे आपका रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रण में रहता है। यह टिंचर या टैबलेट के रूप में उपलब्ध है। यदि आप मदर टिंचर ले रहे हैं, तो दिन में तीन बार आधा कप पानी में घोल की 3-5 बूंदें लें। अन्यथा, आप चिकित्सक के निर्देशानुसार टेबलेट को चूस या चबा सकते हैं।

मधुमेह का होम्योपैथिक उपचार

मधुमेह के होम्योपैथिक उपचार के तरीके

सारांश

मधुमेह के लिए होम्योपैथिक दवाओं का अधिकतम प्रभाव प्राप्त करने के लिए, सुनिश्चित करें कि आप होम्योपैथिक दवाओं के सही तरीकों का पालन करते हैं। और एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने से आप अपने लक्ष्य के करीब पहुंच सकते हैं। मधुमेह के रोगी पारंपरिक मधुमेह की दवा के साथ होम्योपैथिक दवाएं ले सकते हैं। हालाँकि, आपको अपने डॉक्टर से मधुमेह की दवाओं के बारे में जाँच करनी चाहिए जो आप ले रहे हैं।

मधुमेह के लिए होम्योपैथिक उपचार कई स्वरूपों में आते हैं। इसलिए, उपचार की खुराक को प्रशासित करने से पहले निर्देशों को ध्यान से पढ़ें। यदि आपके हाथ साफ और सुगंध या गंध से मुक्त हैं तो आप उपचार को सबसे अच्छे तरीके से संभाल सकते हैं।

मधुमेह का होम्योपैथिक उपचार के लिए निम्नलिखित का पालन करें

  • लिफाफे में दवा डाल कर इस्तेमाल करे (Dispense in envelope) : कुछ होम्योपैथिक दवाओं को एक लिफाफे में रखने की जरूरत है। यदि कोई डॉक्टर आपको ऐसा होम्योपैथी उपचार सुझाता है, तो आपको डॉक्टर के कहे अनुसार हे इसका इस्तेमाल करें। एक लिफाफे मे दवा को रखें | अपनी उंगलियों को हल्का सा अपने होंठो की नमी लगा कर लिफाफे मे डाले इससे लिफाफे मे मौजूद दवाई उंगलियों पर चिपक जाएगी | पैलेट आपकी उंगली से चिपक जाएंगे फिर आप उन्हें अपने मुंह में डाल सकते हैं और धीरे-धीरे चूस सकते हैं।
  • खाने के निर्देश (Eating instructions) : यदि आप होम्योपैथिक उपचार कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप मधुमेह के लिए होम्योपैथी दवा लेने से कम से कम 30-60 मिनट पहले और बाद में कुछ भी न खाएं। अपने मुंह को माउथवॉश, पेय, खाद्य पदार्थ आदि जैसे स्वादों से मुक्त रखें। आप मधुमेह के इलाज के दौरान अपनी होम्योपैथिक दवाएं लेना जारी रख सकते हैं और होम्योपैथी दवा लेने से पहले और बाद में कुछ भी नहीं खाने का प्रयास न करें नही तो दवाई का आप पर कोई असर नही होगा और यह आपको कोई फायदा नही पोह्चाएगी। व्यक्तिगत आहार और कसरत  करना भी दवाई लेने के साथ साथ भट ज्यदा ज़रूरी है।
  • मासिक धर्म के दौरान दवाओं से बचें (Avoid medications during the menstrual period) : कई होम्योपैथिक दवाएं मासिक धर्म के दौरान महिलाओं के लिए अनुपयुक्त होती हैं। इसलिए, यदि आप मधुमेह के लिए होम्योपैथिक उपचार लेना शुरू करते हैं, तो अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या मासिक धर्म के दौरान दवा लेना सुरक्षित है।
  • भांग का कोई भी उत्पाद न लें (Do not take any cannabis product) : मधुमेह रोगी होम्योपैथिक उपचार कर रहे हों, उन्हें भांग के किसी भी उत्पाद का सेवन नहीं करना चाहिए। यह मधुमेह के लक्षणों के उपचार में होम्योपैथिक दवाओं पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है।
  • हर्बल सप्लीमेंट लेने से बचें (Avoid taking herbal supplements) : मधुमेह के लिए हर्बल सप्लीमेंट आपके मधुमेह के लक्षणों को छुपा सकते हैं। इसलिए, होम्योपैथिक उपचार निर्धारित करना मुश्किल हो जाता है। तेज गंध वाले कपूर, नीलगिरी और अन्य उत्पादों के उपयोग से बचें।

आजकल बहुत से लोग उपचार के सुरक्षित और प्राकृतिक तरीकों की ओर झुकाव रखते हैं। यह उन्हें दवाओं के दुष्प्रभावों से बचने में मदद करता है और उन्हें स्वाभाविक रूप से फिट रहने में सक्षम बनाता है। मधुमेह (diabetes) एक ऐसी बीमारी है जिसके लिए प्राकृतिक देखभाल उपचार उपलब्ध हैं। हर्बल मधुमेह उपचार के अलावा, होम्योपैथी उच्च रक्त शर्करा के स्तर के उपचार के लिए कई प्रकार की दवाएं भी प्रदान करती है। मधुमेह को स्थायी रूप से लाइलाज माना जाता है, लेकिन होम्योपैथी दवाओं से इसके लक्षणों को नियंत्रित किया जा सकता है। इसलिए, होम्योपैथी उपचार बिना किसी दुष्प्रभाव के स्वाभाविक रूप से उच्च रक्त शर्करा के प्रबंधन में मदद करते हैं।

डायबिटीज रेवेर्सल मेथड के ज़रिये मधुमेह को रिवर्स यानि उल्टा किया जा सकता है | ज़रूरत है आपकी इच्छा शक्ति और लगन की |

स्वाभाविक रूप से रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तर को विनियमित करने की पूरी प्रक्रिया को तेज करती है। डांसिंगर ने ठीक ही कहा है, ” अपने आप पर नियंत्रण लगाना कठिन है बिना किसी की मदद के ।” नियमित रूप से इलाज करना, सही भोजन का सेवन करना, सही समय पर दवाई लेना, व्याम करना और अच्छी जीवन शैली से आप डायबिटीज को हरा सकते है|

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

उच्च रक्त शर्करा के स्तर के उपचार में होम्योपैथी दवा कितनी प्रभावी है?

होम्योपैथी उपचार मधुमेह (diabetes) के इलाज के लिए काफि फय्देमंद और अच्छा हैं। यह मधुमेह न्यूरोपैथी और स्तंभन दोष (diabetic neuropathy and erectile dysfunction) जैसे मधुमेह के दुष्प्रभावों के इलाज में अच्छी तरह से काम करता है। होम्योपैथी उपचार में परिणाम आने मे एलोपैथिक उपचार की तुलना में अधिक समय लगता है। लेकिन, इस्से साइड इफेक्ट्स होने का रिस्क काफि कम रह्ता है। आप बीच में कुछ अंतर के साथ एलोपैथिक दवाओं के अलावा होम्योपैथी दवाएं ले सकते हैं। होम्योपैथी दवा दुष्प्रभावों को कम करने में मदद करती है जबकि, एलोपैथिक दवाएं मधुमेह (diabetes) के कारण पर काम करती हैं।

क्या होम्योपैथी में मधुमेह का कोई इलाज है?

जी हां, होम्योपैथी में डायबिटीज और डायबिटीज के लक्षणों का इलाज है। कुछ होम्योपैथी दवाएं मधुमेह के इलाज में मदद करती हैं। एब्रोमा अगस्ता, फास्फोरस, सिज़ीजियम जम्बोलनम, जिमनेमा सिल्वेस्टर और फॉस्फोरिक एसिड (Abroma Augusta, phosphorus, Syzygium Jambolanum, Gymnema Sylvestre, and phosphoric acid) मधुमेह के इलाज के लिए होम्योपैथी में बहुत फायदेमंद साबित हुई हैं। हालांकि शुगर (sugar) के मरीजों को डॉक्टर से सलाह मशविरा करने के बाद ही इन दवाओं का सेवन करना चाहिए।

मधुमेह के लिए होम्योपैथी दवाएं लेते समय क्या परहेज करें?

जब आप होम्योपैथी दवा का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको कुछ प्रकार के भोजन से बचने की आवश्यकता होती है। यह आपको होम्योपैथी दवाओं के दुष्प्रभावों से बचने में मदद करेगा। यह आपको होम्योपैथी दवाओं का सबसे अधिक लाभ देगा। आमतौर पर, आपको बिना पके फल, खट्टे फल, या कुछ भी नहीं खाना चाहिए जो अत्यधिक खट्टा हो। मछली और समुद्री उत्पादों से बचें जब आप होम्योपैथी दवा का इस्तेमाल कर रहे हों। मधुमेह रोगियों को कृत्रिम खाद्य रंग या स्वाद (any food containing artificial food color or flavor) वाले किसी भी भोजन से बचने की भी आवश्यकता है।

क्या होम्योपैथी दवा मधुमेह के इलाज के लिए सुरक्षित है?

होम्योपैथी दवाओं में आमतौर पर भारी धातुओं जैसे बड़ी संख्या में सक्रिय तत्व (active ingredients like heavy metals) होते हैं। यह खतरनाक हो सकता है यदि आप होम्योपैथी दवा को अत्यधिक मात्रा में या परामर्श के बिना लेते हैं। होम्योपैथी उपचार में, अधिकांश होम्योपैथी दवाएं पानी के (diluted) के साथ इस्तेमाल की जाति हैं। इसलिए, इससे किसी भी दुष्प्रभाव का खतरा नही है, हालांकि अपवाद वास्तव में हैं। कुल मिलाकर, होम्योपैथी दवाएं मधुमेह के इलाज के लिए सुरक्षित और प्रभावी हैं।

क्या होम्योपैथिक ग्लोब्यूल्स का सेवन मधुमेह मे सुरक्षित है?

होम्योपैथी दवाओं में इस्तेमाल होने वाले ग्लोब्यूल्स (globules) को तैयार करने के लिए निर्माता गन्ना चीनी (सुक्रोज) या लैक्टोज (sucrose) or (lactose) का उपयोग करते हैं। होम्योपैथी दवाएं बनाने के लिए एक आधार (base) के रूप में लैक्टोज (lactose) का इस्तेमाल किया जाता है। इन दवाओं को गोलियों या ग्लोब्यूल्स (dispensed in tablets or globules) में वितरित किया जाता है। ग्लोब्यूल्स (globules) की खुराक में चीनी की मात्रा कम होती है। यहां तक कि गंभीर मधुमेह वाले रोगी प्रति दिन एक चम्मच ग्लोब्यूल्स (globlules) ले सकते हैं।

संदर्भ:

  1. https://www.nhp.gov.in/diabetes-mellitus-and-homeopathic-approach_mtl
  2. https://www.medicalwale.com/related_article/homeopathy/86/homeopathic-remedies-for-diabetes
  3. https://www.healthline.com/health/homeopathy-diabetes
  4. https://www.icliniq.com/articles/diabetes-health/most-helpful-homeopathic-remedies-for-diabetes
  5. https://timesofindia.indiatimes.com/life-style/health-fitness/home-remedies/how-homeopathy-can-help-treat-diabetes/articleshow/70550329.cms
  6. https://www.drhomeo.com/diabetes/homeopathic-medicines-diabetes/
  7. https://www.nhp.gov.in/diabetes-mellitus-and-homeopathic-approach_mtl

Last Updated on by Dr. Damanjit Duggal 

Disclaimer

The information included at this site is for educational purposes only and is not intended to be a substitute for medical treatment by a healthcare professional. Because of unique individual needs, the reader should consult their physician to determine the appropriateness of the information for the reader’s situation.

Leave a Reply

Lower Your Blood Sugar Levels
Naturally!

X