मधुमेह (Diabetes) में क्या खाएं और क्या न खाएं?

अक्सर डायबिटीज के मरीज़ो को लोग सलाह देते है की यह मत खाओ और यह ज्यादा से ज्यादा खाया करो | ज़रूरत है सही जानकारी की इसलिए आइये जानते है इस आर्टिक्ल के माध्यम से की डायबिटीज में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए | मधुमेह ( Diabetes) के दौरान भोजन , फल आदि के सर्वोत्तम विकल्पों को समझने के लिए नीचे दिए गए लेख को पढ़ें।

मधुमेह ( Diabetes) एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर में इंसुलिन ( insulin)‎ की कमी या हमारे शरीर की कोशिकाओं ( body cells) द्वारा इंसुलिन प्रतिरोध ( insulin resistance) के कारण उत्पन्न होती है। इंसुलिन की कमी या प्रतिरोध की वजह से , रक्त शर्करा ( blood sugar level) का स्तर असामान्य रूप से उच्च हो जाता है। इस प्रकार , लंबे समय तक उच्च रक्त शर्करा ( blood sugar level) का स्तर मधुमेह ( Diabetes) का संकेत  देता है।

आम का सेवन न करें , क्योंकि आप मधुमेह रोगी हैं ? आम में चीनी की मात्रा अधिक होती है और यह हानिकारक हो सकता है। कई मधुमेह ( Diabetes) रोगियों ने ऐसे बयान सुने होंगे। क्या आपको मधुमेह ( Diabetes) होने पर फल खाने से कोई नुकसान हो सकता है ? यदि हाँ , तो कौन से फल खाने चाहिए और किन फलों से बचना चाहिए ?

Table of Contents

डायबिटीज (Diabetes) डाइट मे क्या होना चाहिए?

डायबिटीज ( Diabetes) एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर में इंसुलिन ( insulin)‎ की कमी या हमारे शरीर की कोशिकाओं ( body cells) द्वारा इंसुलिन प्रतिरोध ( insulin resistance) के कारण उत्पन्न होती है। इंसुलिन की कमी या प्रतिरोध की वजह से , रक्त शर्करा ( blood sugar level) का स्तर असामान्य रूप से उच्च हो जाता है। इस प्रकार , लंबे समय तक उच्च रक्त शर्करा ( blood sugar level) का स्तर मधुमेह ( Diabetes) का संकेत  देता है।

डायबिटीज ( Diabetes) नियंत्रण के लिए रोगी को आहार या डाइट (diet) में निम्नलिखित प्रकार के खाद्य पदार्थ ( Foods) खाने  चाहिए: ‎

  • ऐसे खाद्य पदार्थ ( Foods) जो रक्त शर्करा के स्तर ( blood sugar level) को तुरंत नहीं बढ़ाते हैं , वे निम्न ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ हैं। कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स ( low glycemic index)‎ वाले खाद्य पदार्थ जटिल चीनी अणुओं ( complex sugar molecules) से बने होते हैं। जिसके कारण इन खाद्य पदार्थों को पचने में समय लगता है और इस प्रकार शर्करा ( blood sugar)  धीरे-धीरे रक्त में निकल जाती है। रक्त शर्करा के स्तर ( blood sugar level) की इस तरह की धीमी रिहाई मधुमेह ( Diabetes) नियंत्रण में मदद करती है।
  • उच्च फाइबर ( High fiber) सामग्री वाले खाद्य पदार्थ। उच्च रेशेदार खाद्य पदार्थ जल प्रतिधारण ( water retention), पाचन में मदद करते हैं और खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर ( bad cholesterol levels) को कम करते हैं। टाइप 2 मधुमेह ( Type 2 diabetes) का सामान्य कारण मोटापा और ख़राब जीवन शैली है। इस प्रकार , ऐसे मधुमेह ( Diabetes) रोगियों में उच्च फाइबर भोजन  बहुत सारी बीमारियों को  और वजन  को कम करने में मदद करता है जिससे टाइप 2 मधुमेह ( Type 2 diabetes) के जोखिम को कम किया जा सकता है।
  • अच्छा प्रोटीन वाला खाना। मधुमेह ( Diabetes) का सामान्य लक्षण बार-बार भूख लगना है। इससे बार-बार खाने और अधिक वजन होने लगता है। प्रोटीन आपको लंबे समय तक भरे हुए पेट का एहसास कराते हैं। इस प्रकार , प्रोटीन मधुमेह ( Diabetes) रोगियों को बार-बार खाने की इच्छा को कम करने में मदद करता है।
  • उच्च नाइट्रेट सामग्री ( High-nitrate content food) वाला खाना। नाइट्रेट युक्त ( nitrate-rich) भोजन रक्तचाप ( blood pressure) को कम करने में मदद करता है। वे रक्त परिसंचरण ( blood circulation) में सुधार करने में भी मदद करते हैं। इस प्रकार ये खाद्य पदार्थ मधुमेह ( Diabetes) से जुड़े जोखिमों जैसे ( heart disease, nerve pains, and other cardiovascular diseases) हृदय रोग , तंत्रिका दर्द और अन्य हृदय रोगों को कम करते हैं।
  • विटामिन और खनिज युक्त खाद्य पदार्थ। मधुमेह ( Diabetes) के कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। इसलिए मधुमेह ( Diabetes) रोगियों को शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए आवश्यक विटामिन और खनिजों से भरपूर आहार की आवश्यकता होती है।

सारांश

मधुमेह (Diabetes) रोगी के आहार में उच्च फाइबर सामग्री, प्रोटीन और खनिजों की सहायक मात्रा के साथ कम कार्ब वाला खाना होना चाहिए।

डायबिटीज मे क्या खाना चाहिए?

डायबिटीज में क्या ना खाएं

सही खाना खाने से लंबे समय तक रक्त शर्करा के स्तर (blood sugar level) को नियंत्रित किआ जा सकता है | इसलिए  डायबिटीज में क्या खाना चाहिए इसकी जानकारी एक डायबिटीज के मरीज़ को होनी चाहिए । ‎

खाने के साथ साथ खाने की मात्रा का भी धयान रखना ज़रूरी है | कई मरीज़ो मे हाई ब्लड शुगर (high blood sugar) की शिकायत हो सकती है तो दूसरी तरफ कुछ मरीज़ो का ब्लड शुगर स्तर लौ (low blood sugar) हो सकता है | दोनों ही  परिस्तिथियों में  खाना का सही चयन आवयशक है |

हाई ब्लड शुगर मे क्या खा सकते है?

उच्च रक्त शर्करा (High blood sugar) वाले मधुमेह वाले लोगों के लिए डायबिटीज मे क्या खाना चाहिए  एक बड़ा सवाल रहता है, खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ जिन्हें शरीर धीरे-धीरे अवशोषित करता है , सबसे अच्छे होते हैं क्योंकि वे रक्त शर्करा में स्पाइक्स और डिप्स का कारण नहीं बनते हैं। उच्च रक्त शर्करा के रोगियों के लिए सबसे अच्छा विकल्प कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (low glycemic index foods) वाले खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन करना है [3] । ये खाद्य पदार्थ रक्त शर्करा को धीरे-धीरे रक्तप्रवाह में छोड़ते हैं और इस प्रकार स्पाइक्स का कारण नहीं बनते हैं। इस प्रकार यह ग्लूकोज अवशोषण के लिए शरीर के इंसुलिन को अधिक समय देता है। अंत में रक्त शर्करा का स्तर सामान्य स्तर पर बना रहता है।

नीचे दी गई टेबल मे डायबिटीज में क्या खाना चाहिए का सारांश है :-

खाने का सामान उच्च रक्त शर्करा के लिए सलहा

(High blood sugar level recommendation)

क्या खाना चाहिए
  • कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (low glycemic index foods) वाले आहार का सेवन करें।
  • साबुत अनाज जैसे ब्राउन राइस , क्विनोआ और स्टील-कट ओटमील
कुछ फलो के उदारण
  • स्ट्रॉबेरी , चेरी , सेब , कीवी , काले जामुन , खट्टे फल जैसे नींबू , संतरा।
कुछ सब्ज़ियों के उदारण
  • हरी पत्तेदार सब्जियां और बिना स्टार्च वाली सब्जियां जैसे ब्रोकली , हरी सब्जियां , गाजर , भिन्डी आदि अधिक खाएं।
पेय पदार्थ पानी सबसे अच्छा विकल्प है। उच्च रक्त शर्करा के स्तर के दौरान निर्जलीकरण (Dehydration) आम है। इसलिए खूब पानी पिएं।

लौ  ब्लड शुगर मे क्या खा सकते है?

हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycemia) एक चिकित्सा स्थिति है जहां रक्त शर्करा का स्तर सामान्य स्तर से नीचे चला जाता है यानि लौ ब्लड शुगर (low blood sugar) । यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यह कोमा (Coma) जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकता है। प्रारंभिक हाइपोग्लाइसीमिया उपचार 15-15 नियम पर आधारित है।

  • जब आपको हाइपोग्लाइसीमिया के शुरुआती लक्षण दिखाई दें , तो 15 ग्राम तेजी से काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट यानि उच्च ग्लाइकेमिक इंडेक्स ( high glycemic index foods) का सेवन करें। तेजी से काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट के कारण रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है।
  • 15 मिनट के बाद फिर से रक्त शर्करा के स्तर की जाँच करें।
  • यदि रक्त शर्करा का स्तर अभी भी सामान्य से कम है तो फिर से 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट खाएं [5] ।

उपरोक्त चरणों को 1 से 3 बार दोहराएं जब तक कि आपका रक्त शर्करा का स्तर सामान्य न हो जाए। रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने के लिए सामान्य भोजन करें।

  • कुछ तेजी से काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट यानि उच्च ग्लाइकेमिक इंडेक्स ( high glycemic index foods) ग्लूकोज की गोलियां , किशमिश , 1 बड़ा चम्मच शहद , जेली बीन्स , 1 बड़ा चम्मच मकई हैं [5] ।
  • जटिल कार्बोहाइड्रेट या चॉकलेट न खाएं क्योंकि इन्हें पचने में समय लगता है। जिससे ब्लड शुगर लेवल का बढ़ना बहुत ही धीमी गति से होता है।
  • अगर उपरोक्त चरणों को 3 बार दोहराने के बाद भी स्थिति वैसी ही बनी रहती है , तो डॉक्टर से सलाह लें।
खाने का सामान कम रक्त शर्करा के लिए सलहा (Low blood sugar level recommendation)
क्या खाना चाहिए
  • कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (low glycemic index foods) वाले आहार का सेवन करें।
  • साबुत अनाज जैसे ब्राउन राइस , क्विनोआ और स्टील-कट ओटमील
कुछ फलो के उदारण
  • स्ट्रॉबेरी , चेरी , सेब , कीवी , काले जामुन , खट्टे फल जैसे नींबू , संतरा।
कुछ सब्ज़ियों के उदारण
  • बीट्स , गाजर , और जीकामा।
पेय पदार्थ
  • फलों के रस जैसे सेब का रस , संतरे का रस , सेब की चटनी
  • <55 मिलीग्राम/डीएल के लिए , शहद या मेपल सिरप या अंगूर का रस दें।

मधुमेह (Diabetes) में खाने की बेहतर और ख़राब विकल्प सूचि

फल- मधुमेह (Diabetes) के दौरान फल खाने के सर्वोत्तम तरीके

डायबिटीज का खाना

एक अच्छे फल आहार योजना के लिए आहार विशेषज्ञ से सलाह लें। आम तौर पर मधुमेह ( Diabetes) के रोगियों को प्रतिदिन 2 से 4 सर्विंग फलों का सेवन करना चाहिए। फलों के 1 हिस्से में 15 ग्राम कार्ब्स  मौजूद होते हैं। प्रत्येक फल  को इस्तेमाल करने का तरीका इस प्रकार है:

  • 1 कप स्ट्रॉबेरी ‎
  • 3/4 कप जामुन ‎
  • 1 मध्यम आकार का नारंगी
  • सेब , आड़ू , या नाशपाती का 1 छोटा टुकड़ा
  • 1/2 मध्यम आकार के केले। ‎
  • 2 छोटी कीवी ‎
  • 1 कप तरबूज ‎
  • 18 छोटी चेरी या अंगूर ‎
  • ‎2 बड़े चम्मच किशमिश ‎
  • हाँ , मध्यम आकार के आम का 1/3 भाग

अपनी पसंद के फल का सेवन करने से पहले अच्छी तरह से योजना बनाएं। कुछ बेहतरीन फलो के विकल्प है :-

  1. सेब: सेब विटामिन सी (Vitmain C) और फाइबर से भरपूर होते हैं। इसमें 77 कैलोरी और 21 ग्राम कार्ब्स होते हैं। सेब के छिलके में पॉलीफेनोल्स यौगिक (polyphenols compounds) होते हैं। ये यौगिक अग्न्याशय (pancreases) को ‘ इंसुलिन ‘ बनाने के लिए प्रेरित करते हैं। ये यौगिक इंसुलिन प्रतिरोध (insulin resistance) को कम करने में मदद करते हैं और इस तरह ये रक्त शर्करा के स्तर (blood sugar level) को कम करने में मदद करते हैं। सेब की बाहरी छिलके में भी एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।इस प्रकार, डायबिटीज में क्या खाना चाहिए  इस सवाल का सेब एक सही विकल्प साबित होता।
  2. केला: एक मध्यम आकार के केले में 3 ग्राम फाइबर , 29 ग्राम कार्ब्स और 112 कैलोरी होती है। ये पोटेशियम और विटामिन सी से भी भरपूर होते हैं। केले में सभी महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं। इसलिए केला संतुलित आहार के लिए यह सबसे अच्छा विकल्प है। लेकिन भूरे रंग के केले पके होने के कारण उनमें चीनी की मात्रा अधिक होती है और इस प्रकार वे शर्करा के स्तर (blood sugar level) को बढ़ा सकते हैं। इस प्रकार , मधुमेह (Diabetes) के रोगियों के लिए , छोटे से मध्यम आकार के केले का सेवन करना बेहतर होता है [6] ।
  3. स्ट्रॉबेरी: स्ट्रॉबेरी  की जीआई वैल्यू (GI) 25 और जीएल वैल्यू 3 है , जो इसे ‘ मधुमेह (Diabetes) रोगियों के लिए एक आदर्श विकल्प बनाती है। धीमी अवशोषण दर (slower absorption rates) के कारण स्ट्रॉबेरी रक्त शर्करा के स्तर (blood sugar level) को नियंत्रित करने में मदद करती है। स्ट्रॉबेरी में 11 ग्राम कार्ब्स और 2 ग्राम फाइबर होते हैं। विटामिन ‎C मरीज़ की बीमारियों से लड़ने वाली ताक़त में सुधार करने में मदद करता है , शरीर के चयापचय (body metabolism) को बढ़ाता है और शरीर के वजन को कम करने में मदद करता है। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर (cholesterol level) को भी कम करता है और इस प्रकार हृदय संबंधी बीमारियों के जोखिम को कम करता है [6] ।
  4. खट्टे फल (Citrus fruits): ये ऐसे फल हैं जो विटामिन सी , फोलेट , पोटेशियम और विटामिन के से भरपूर होते हैं। उदाहरण: अंगूर , नींबू , संतरा , कीवी। खट्टे फलो में मौजूद विटामिन सी रक्त ग्लूकोज (blood glucose level)  के स्तर को कम करने में मदद करते  है। रोजाना 1000 मिलीग्राम विटामिन सी का सेवन टाइप – 2 मधुमेह (Type 2 diabetes) के रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर (blood sugar level) को कम करता है। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट भी है और इस प्रकार मुक्त कणों (free radicals) से क्षतिग्रस्त कोशिकाओं (healing the cells) को ठीक करने में मदद करता है। टाइप- 2 मधुमेह (Type 2 diabetes) के जोखिम और जटिलताओं को कम करने के लिए  इस तरह के फलो का इस्तेमाल करना आवश्यक है।
  5. जामुन – जामुन मधुमेह (Diabetes) के लिए एक चमत्कारिक फल है क्योंकि इसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम (low glycemic index) होता है और यह घुलनशील फाइबर (soluble fibers) से भरपूर होता है। यह अधिक पेशाब और प्यास लगने जैसे मधुमेह (Diabetes) के लक्षणों को ठीक करने के साथ-साथ इंसुलिन संवेदनशीलता (insulin sensitivity) में सुधार करने में भी मदद करता है। एक जामुन में 30 कैलोरी होती है।

सब्जियां – मधुमेह प्रबंधन (diabetes management) के लिए क्यों इस्तेमाल की जाती हैं सब्जियां?‎

सब्जियां प्रकृति का सबसे अच्छा उपहार हैं जिनमें फाइबर , प्रोटीन , खनिज और कार्ब्स की सही मात्रा होती है। इस प्रकार , सब्जियां मधुमेह प्रबंधन ( diabetes management) में सही विकल्प हैं क्योंकि वे ‘ संतुलित पोषक तत्वों का एक बड़ा स्रोत हैं।

सब्जियों में प्राकृतिक तत्व होते हैं जो ब्लड शुगर ( blood sugar)  को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। निम्नलिखित कारणों से सब्जियां खाना मधुमेह प्रबंधन ( diabetes management) में अत्यधिक फायदेमंद है: ‎

  • आमतौर पर सब्जी खाने से मोटापे को नियंत्रित करने में मदद मिलती है जो कि टाइप- 2 मधुमेह ( Type 2 diabetes) का एक सामान्य कारण है।
  • कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स ( Low glycemic index) वाली सब्जियां उच्च शर्करा के स्तर ( high blood sugar level) को नियंत्रित करने में मदद करती हैं।  जोकि मधुमेह प्रबंधन ( diabetes management) के लिए अच्छा होता है।
  • सब्जियों में उचित मात्रा में फाइबर और प्रोटीन होता है। इस प्रकार , टाइप- 2 मधुमेह ( Type 2 diabetes) के रोगियों में वजन कम करने के लिए यह एक आदर्श विकल्प है।
  • सब्जियों में विटामिन , कैल्शियम , फॉस्फोरस , मैग्नीशियम , आयरन और अन्य खनिज होते हैं , जो मरीज़ की बीमारियों से लड़ने वाली ताक़त को बढ़ाने में मदद करते हैं। ये खनिज शरीर के चयापचय ( body metabolism) को नियंत्रित करते हैं और स्वास्थ्य में सुधार करते हैं।
  • कुछ कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स ( Low glycemic index) सब्जियां कम कार्ब वाले खाद्य पदार्थों के लिए सही विकल्प हैं और ‘ रक्त शर्करा के स्तर ( blood sugar level) को नियंत्रित करने में मदद करती हैं। ‘
  • मधुमेह ( diabetes) के रोगियों में रक्त परिसंचरण ( blood circulation) को बढ़ाने और हृदय संबंधी समस्याओं से बचने के लिए नाइट्रेट ( Nitrate-rich vegetables) से भरपूर सब्जियां सबसे अच्छा भोजन विकल्प हैं।
  • फाइबर से भरपूर सब्जियां पाचन में सुधार करती हैं। यह जल प्रतिधारण ( water retention) में भी मदद करती हैं। और इस प्रकार टाइप 2 मधुमेह ‎ ( Type 2 diabetes)‎ के रोगियों में निर्जलीकरण ( dehydration) की शिकायतों से बचा जाता है।
  • सब्जियां खाने से मधुमेह ( diabetes) की अन्य जटिलताओं जैसे हृदय रोग और कोलेस्ट्रॉल से बचने में मदद मिल सकती है।
  • उदाहरण: हरी पत्तेदार सब्जियां , भिंडी , गाजर , टिंडा , फूलगोभी मधुमेह ( diabetes) रोगियों के लिए सबसे अच्छी सब्जियां हैं।

सारांश

सब्जियां वजन कम करने में मदद करती हैं, खराब कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप (bad cholesterol and blood pressure) को कम करती हैं, ताक़त को बढ़ावा देती हैं, शरीर के चयापचय (body metabolism) ‎ में सुधार करती हैं। जो मधुमेह (diabetes) नियंत्रण के लिए आवश्यक हैं।

मधुमेह नियंत्रण और प्रबंधन के लिए अच्छी सब्जियों की सूची यहां दी गई है।

डायबिटीज की डाइट

1.‎ गाजर: डायबिटीज में क्या खाना चाहिए  या कौन सी सब्जी खाये ? गाजर सबसे अच्छी सब्ज़ियों में से एक सब्ज़ी है। और इसे कच्चा और पकाकर भी खाया जा सकता है। मीठे स्वाद में होने के बावजूद गाजर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स ( glycaemic index value) 16 होने के कारण मधुमेह के रोगियों के लिए सबसे अच्छा कुछ बेहतरीन फलो के विकल्प है। एक मध्यम आकार के गाजर में 4 ग्राम कार्ब्स होते हैं। इस प्रकार , यह रक्त शर्करा के स्तर ( blood sugar level) को तुरंत नहीं बढ़ाता है। गाजर में बीटा-कैरोटीन ( beta-carotene) होता है। और यह विटामिन ए (Vitamin A) [ 2] का एक समृद्ध स्रोत है। यह फाइबर से भरपूर होता है। इस प्रकार , गाजर  ताक़त  को बढ़ाने में मदद करती है। और शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करती है , और टाइप 2 मधुमेह ‎ ( Type 2 diabetes)‎ के जोखिम को कम करती है। गाजर में मौजूद फाइबर वजन बढ़ने के जोखिम को कम करने में मदद करता है। और भूख की इच्छा को नियंत्रित करता है [ 2] ।

2.‎ क्रूसिफेरस सब्जियां ‎‎ ( Cruciferous vegetables)‎ : ये सब्जियों का एक समूह है जो विटामिन K और फोलेट ( folate) से भरपूर होती है। ये मधुमेह ( diabetes) रोगियों के लिए सबसे अच्छी सब्जियों में से हैं। कुछ उदाहरण- ब्रोकली , गोभी , केल , फूलगोभी , ब्रसेल्स के स्प्राउट्स आदि।

    • सब्जियों के ये समूह स्टार्च रहित ( non-starchy) होते हैं और इस प्रकार कार्ब्स की मात्रा इन सब्ज़ियों में कम पायी जाती है। जो उन्हें मधुमेह ( diabetes) के लोगों के लिए सबसे फायदेमंद सब्जी बनाते हैं। एक कप ब्रोकली या पत्ता गोभी सिर्फ 5 ग्राम कार्ब्स देती है। इस प्रकार , वे वजन प्रबंधन और मधुमेह प्रबंधन ( weight management and diabetic management) के लिए अच्छे हैं।
    • ब्रोकली में मौजूद सल्फोराफेन ( Sulforaphane) रक्त शर्करा के स्तर ( blood sugar level) को कम करने में मदद करता है। ‎
    • कम कार्ब्स के अलावा , ये सब्जियां विटामिन सी (Vitamin C) का एक समृद्ध स्रोत हैं , इनमें से 6.6% फाइबर होता है। ‎ और इसमें 2.9% आयरन होता है , जिससे यह मधुमेह ( diabetes) रोगियों के लिए एक आदर्श विकल्प है। जब भूख की इच्छा को नियंत्रित करने और रक्त शर्करा के स्पाइक्स ( blood sugar spikes) को नियंत्रित करने की बात आती है। तो इस प्रकार की सब्ज़ियां सबसे ज़्यादा फायदेमंद साबित होती हैं।
    • फूलगोभी (Cauliflower) विटामिन , खनिज , और फाइबर , सल्फर , और नाइट्रोजन ( vitamins, minerals, and fiber, sulfur, and nitrogen) में उच्च है। वे शरीर में सूजन को कम करने में मदद करती हैं। फूलगोभी शरीर में कैंसर कोशिकाओं ( cancer cells)  के विकास को भी रोकती  है। यह एंटीऑक्सिडेंट ( antioxidants) के स्रोत के लिए सबसे अच्छी है। और इस प्रकार ‘ हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद करती है [ 1] । ‎
    • कैल ( Kale) में फ्लेवोनॉयड ( flavonoid) होता है। जो एक एंटीऑक्सीडेंट ( antioxidants) है। यह आपके ब्लड शुगर लेवल और ब्लड प्रेशर ( blood sugar level and blood pressure) को नियंत्रित करता है। इसकी एंटीऑक्सीडेंट सामग्री ( antioxidant content) के कारण कैल ( Kale) ‘ कैंसर और हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है [ 1] । ‎

इस प्रकार , मधुमेह ( diabetes) के रोगी के लिए क्रूसिफेरस सब्जियां ( Cruciferous vegetables) अच्छी सब्जियां हैं जो ‘ टाइप 2 मधुमेह ‎ ( Type 2 diabetes)‎ [1] के जोखिम को कम करने में मदद करती हैं।

3.‎ भिंडी: भिंडी फाइबर , विटामिन और खनिज का अच्छा स्रोत हैं। भिंडी कम कैलोरी वाला आहार है। और इसे इस्तेमाल करने से रक्त शर्करा ( blood sugar) भी नहीं बढ़ती है। इनमें माइरिकेटिन ( Myricetin) भी होता है। जोकी बदन में ग्लूकोस की मात्रा कम करने में सहायता करता है । इसलिए ही मधुमेह ( diabetes) के लिए भिंडी को बहुत उपयोगी सब्ज़ी माना गया है ये इस बीमारी के लिए काफी फायदेमंद है।

मधुमेह (diabetes) के लिए मांसाहारी भोजन

उन लोगों के लिए जो मांसाहारी खाना पसंद करते हैं , लेकिन मधुमेह ( diabetes) से पीड़ित हैं।   यहाँ उनके लिए कुछ ऐसे घरेलु उपचार बताये जा रहे है जिनका इस्तेमाल करके वो लोग थोड़ा मांसाहारी भोजन ले सकते  हैं।

      • मधुमेह ( diabetes) के रोगियों के लिए समुद्री भोजन और चिकन बेहतर विकल्प हैं।
      • लाल मांस से बचना चाहिए क्योंकि इसमें उच्च स्तर की संतृप्त वसा ( saturated fats) होती है।
      • अगर आपको कोलेस्ट्रॉल की समस्या है तो आपको अंडे की जर्दी को अपनी डाइट में नहीं लेना चाहिए।
      • मधुमेह ( diabetes) होने पर आप 85 ग्राम या 3 औंस (Ounce) मांस , 120 ग्राम मछली या 100 ग्राम चिकन खा सकते हैं ।
      • चिकन , मछली या मांस को डीप फ्राई करने से बचें।

डेयरी उत्पाद

डेयरी उत्पाद प्रोटीन , कैल्शियम और विटामिन प्रदान करते हैं जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं।अगर कोई डेयरी उत्पाद के चीज़ो का सेवन करना चाहता है तो लौ फैट वाली चीज़े (low fat products), कम वसा सामग्री (low fat content) ही इस्तेमाल करें और इनका कम से कम मात्रा में इस्तेमाल करें। ‎

सर्वश्रेष्ठ विकल्प मधुमेह रोगियों के लिए

      • मलाई रहित दूध ‎ यानि लौ फैट दूध या कम वसा वाला दूध
      • कम चिकनाई वाला दही
      • कम वसा वाला पनीर
      • लो-फैट या नॉनफैट क्रीम
      • नो फ्लेवर सोया मिल्क [3]

वसा (fats), और तेल 

वसा आपके कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकती है , और परिणामस्वरूप , आपको हृदय रोग का खतरा होता है | इसलिए मधुमेह के रोगी को संतृप्त वसा (Saturated fats) से बचना चाहिए। इन चीज़ो पर कण्ट्रोल करना काफी मुश्किल है। लेकिन अगर इन चीज़ो का ज़्यादा इस्तेमाल किया गया तो ये वज़न बढ़ा देगा और आपकी बीमारी बढ़ जाएगी।

सर्वश्रेष्ठ विकल्प मधुमेह रोगियों के लिए

      • मोनोअनसैचुरेटेड वसा (Monounsaturated fats) मधुमेह के रोगियों के लिए स्वस्थ विकल्प हैं क्योंकि वे हमारे दिल पर सुरक्षात्मक प्रभाव डालते हैं। ये वसा हमारे कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं , और इस प्रकार अच्छे हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं [4] ।
      • इसी तरह मधुमेह के रोगियों को पॉलीअनसेचुरेटेड वसा (Polyunsaturated fats) खाना पसंद करना चाहिए जो एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करने और हृदय रोग और स्ट्रोक के जोखिम को कम करने में मदद करते हैं [4] ।
      • ओमेगा – 3 और ओमेगा – 6 फैटी एसिड दो प्रकार के पॉलीअनसेचुरेटेड वसा होते हैं जो हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं [4] ।
      • मधुमेह के रोगियों के लिए मोनोअनसैचुरेटेड वसा और पॉलीसैचुरेटेड फीट अच्छे के उदाहरण हैं: मूंगफली का मक्खन और मूंगफली का तेल , जैतून का तेल , कैनोला तेल , तैलीय मछली (सामन , जैसे सैल्मन , सार्डिन टूना या मैकेरल ‎ (salmon, sardines, tuna, or mackerel )
      • अखरोट , अलसी और अलसी का तेल ,
      • कैनोला तेल , चिया बीज , सूरजमुखी के बीज
      • ‎ पौधे आधारित तेल , जैसे कैनोला , अंगूर के बीज , या जैतून का तेल ‎ ।

पेय (drinks)

जब आप कोई पसंदीदा पेय पीते हैं तब आपको ये मालूम होना चाहिए के इसके साथ साथ आपके बदन में कितनी कैलोरीज और कितने फैट्स जा रहे हैं। ‎ पानी जैसे पेय आपको हाइड्रेटेड (hydrated) रखते हैं और स्वस्थ रक्तचाप को बनाए रखने में मदद करते हैं। लेकिन अगर आपको मधुमेह के फल पेय हैं , तो मीठे पेय हानिकारक हो सकते हैं क्योंकि वे रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तर को तुरंत बढ़ा सकते हैं। इसलिए किसी भी पेय (drinks) का सेवन करते समय सावधान रहें।

सर्वश्रेष्ठ विकल्प मधुमेह रोगियों के लिए

      • बिना स्वाद वाला पानी (Unflavored water) या सुगंधित (flavored sparkling water) स्पार्कलिंग पानी।
      • बिना चीनी वाली चाय या कम वसा वाले दूध (low fat milk) वाली कॉफी |
      • कम वसा वाला दूध
      • हर्बल टी [3]
      • टमाटर का रस या हरी पत्तेदार सब्जियों का रस , या खीरे के रस में मुट्ठी भर जामुन मिलाएं। यह अच्छा है क्योंकि यह स्वस्थ विटामिन और खनिज प्रदान करता है।
      • हरी स्मूदी
      • चीनी मुक्त नींबू पानी

याद रखें कि मधुमेह के अच्छे प्रबंधन के लिए एक उचित आहार योजना आवश्यक है। एक अच्छे डाइट प्लान के लिए अपने डायटीशियन से सलाह लें। आहार योजना एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति की स्वास्थ्य आवश्यकताओं, शरीर के वजन, आयु, रक्त शर्करा के स्तर में भिन्न होगी। इसलिए आपको अपनी खुद की अनुकूलित योजना का पालन करने की आवश्यकता है। ब्रीद वेल-बीइंग (Breathe Well-Being) एक प्रतिष्ठित संगठन है जिसने मधुमेह के प्रभावी प्रबंधन में कई मधुमेह रोगियों की सेवा की है। हमारे आहार विशेषज्ञ मरीज की जरूरतों को विस्तार से सुनते हैं और वे उन्हें मधुमेह प्रबंधन और वजन प्रबंधन के लिए अनुकूलित योजना प्रदान करते हैं। कुशल मधुमेह प्रबंधन के लिए ब्रीद वेल-बीइंग से परामर्श लें।

डायबिटीज के दौरान क्या नहीं खाना चाहिए?

मधुमेह के दौरान आपको अपने खाने के विकल्पों पर ध्यान देना चाहिए। आपको ऐसे खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए या उन खाद्य पदार्थों का सेवन सीमित करना चाहिए जो रक्त शर्करा के स्तर में उतार-चढ़ाव का कारण बन सकते हैं। आपके रक्त शर्करा के स्तर के आधार पर ऐसे खाद्य पदार्थों का पूरा विवरण यहां दिया गया है।

लौ ब्लड शुगर के दौरान इन खाद पदार्थ से बचे

  ऐसे खाद्य पदार्थ जो हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) वाले लोगों द्वारा खाने के लिए उपयुक्त नहीं हैं , नीचे दिए गए हैं। लो ब्लड शुगर होने पर खाना खाने का मकसद ब्लड शुगर लेवल को तुरंत बढ़ाना होता है। लेकिन कुछ खाद्य उत्पाद रक्त शर्करा के स्पाइक्स और उतार-चढ़ाव का कारण बन सकते हैं। इसलिए इन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए। क्योंकि ये खाद्य पदार्थ आपके रक्त शर्करा के स्तर में काफी उतार-चढ़ाव का कारण बन सकते हैं और यह आपके मधुमेह प्रबंधन (Diabetes management) को नुकसान पहुंचा सकता है। य़े हैं:

      • सफेद ब्रेड , सफेद चावल और पास्ता
      • ट्रांस वसा (trans fats)[4]
      • फ्रेंच फ्राइज़ और अन्य तले हुए भोजन
      • साधारण चीनी वाले खाद्य पदार्थ खाने से बचें क्योंकि वे स्पाइक्स का कारण बन सकते हैं।
      • शराब के सेवन से बचें
      • ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें प्रोटीन या वसा होता है – जैसे चॉकलेट , कैंडी बार , आइसक्रीम , कुकीज , क्रैकर्स और ब्रेड – रक्त शर्करा को जल्दी से नहीं बढ़ाते हैं और इस प्रकार निम्न रक्त शर्करा के स्तर में इन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए [3] ।
      • आपको चॉकलेट और वसायुक्त उत्पादों (fatty products)  के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि वे उच्च और निम्न ‘ स्पाइक्स ‘ (high and low spikes) का कारण बन सकते हैं [3] ।

हाई ब्लड शुगर के दौरान इन खाद पदार्थ से बचे

जीतना जरुरी है ये जानना की, डायबिटीज में क्या खाये उतना ही  ये भी जानना जरुरी है की डायबिटीज में क्या ना खाये ? हाई ब्लड शुगर (high blood sugar)  होने पर खाना खाने का मकसद ब्लड शुगर लेवल को तुरंत कम करना होता है। इस प्रकार , उन खाद्य उत्पादों से बचें जिन्हें उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थों की तरह तुरंत सीधे ग्लूकोज में परिवर्तित किया जा सकता है। उच्च रक्त शर्करा के स्तर के दौरान जिन खाद्य उत्पादों से बचना चाहिए उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

      • ट्रांस वसा (Trans fats): शोध कहते हैं कि कृत्रिम ट्रांस वसा पूरी तरह से अस्वस्थ हैं। असंतृप्त वसीय अम्लों को स्थिर करने के लिए उनमें हाइड्रोजन मिलाया जाता है। इस प्रकार , ट्रांस वसा बनाने के लिए प्रक्रिया कई रासायनिक एजेंटों और हीटिंग का उपयोग करती है। यह मुख्य रूप से क्रीमर , मार्जरीन , स्प्रेड , पीनट बटर , मफिन और अन्य बेकरी खाने में पाया जाता है। ये ट्रांस वसा अस्वास्थ्यकर होते हैं और मधुमेह रोगियों के लिए गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकते हैं। यह इंसुलिन प्रतिरोध , हृदय संबंधी समस्याओं , अच्छे कोलेस्ट्रॉल में कमी और हृदय संबंधी अन्य समस्याओं से जुड़ा हुआ है। इसलिए “आंशिक रूप से हाइड्रोजनीकृत” लेबल वाले किसी भी उत्पाद से बचें , बेहतर है कि इससे बचें [4]|
      • फलों के रस : फलों के रस पौष्टिक  होते हैं। लेकिन अगर आपको मधुमेह है तो आप कुछ फलों के जूस सीमित मात्रा में ले सकते हैं। फलों के रस में उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स मूल्य होता है और यह रक्त शर्करा के स्तर को तुरंत प्रभावित करता है। इसलिए बेहतर होगा कि आप बिना मीठे फलों का जूस या सादा फल लें। चीनी-मीठे पेय के रूप में , फलों के रस में फ्रुक्टोज प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है। फ्रुक्टोज से हृदय संबंधी समस्याएं और इंसुलिन प्रतिरोध हो सकता है।
      • इस प्रकार , सोडा , अन्य शर्करा युक्त पेय से बचें
      • वसायुक्त दूध (fats based milk) से बचें
      • नियमित (Regular) क्रीम , नियमित (Regular) आइसक्रीम से बचें
      • Regular yogurt ( नियमित दही ) से बचें
      • Regular cottage cheese ( नियमित पनीर ) से बचें
      • संतृप्त वसा (saturated fats) के बड़े हिस्से , जो मुख्य रूप से पशु उत्पादों से आते हैं , और यह नारियल के तेल और ताड़ के तेल में भी होते हैं। संतृप्त वसा ( Saturated fats) का अधिक सेवन इंसुलिन प्रतिरोध और टाइप 2 मधुमेह (type- 2 diabetes) के विकास से जुड़ा है | इस प्रकार की वसा आपके कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकती है , और परिणामस्वरूप , आपको हृदय रोग का खतरा होता है | इसलिए मधुमेह (diabetes) के रोगी को संतृप्त वसा ( Saturated fats) से बचना चाहिए। आमतौर पर , यह वसा पशु उत्पादों और तेलों में पाया जाता है जो कमरे के तापमान पर ठोस होते हैं [4] । अपने चिकित्सक से पूछें कि आपकी संतृप्त वसा ( saturated fats) ‎ को इस्तेमाल करने की सीमा क्या होनी चाहिए , खासकर यदि आपको “हृदय रोग के साथ-साथ मधुमेह (diabetes) भी है।” उदाहरण के लिए : फुल-फैट पनीर , क्रीम , आइसक्रीम , फुल-फैट दूध , खट्टा क्रीम , मक्खन , नारियल का तेल , ताड़ का तेल से बचें |
      • मीठी चाय , चीनी और क्रीम के साथ कॉफी , फ्लेवर्ड कॉफी और चॉकलेट ड्रिंक्स से बचें
      • ऊर्जा प्रदान करने वाले पेय से बचें
      • शराब और बीयर के सेवन से बचें
      • तले हुए खाद्य पदार्थ , अचार , समोसा , चिप्स और तले हुए मांसाहारी भोजन से परहेज करें।
      • अपने नमक का सेवन सीमित करें
      • मिठाई और केक से बचें
      • आलू , शकरकंद की मात्रा सीमित करें ,
      • मोटापा , खराब जीवनशैली , तनाव , धूम्रपान और शराब मधुमेह की जटिलताओं जैसे हृदय की समस्याओं , गुर्दे की समस्याओं , तंत्रिका क्षति , आंखों की क्षति आदि के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। इस प्रकार , स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखें और अपने वजन का प्रबंधन करें।
खाने का सामान उच्च रक्त शर्करा के लिए सलहा

(High blood sugar

level recommendation)

कम रक्त शर्करा के लिए सलहा (Low blood sugar level recommendation)
क्या नहीं खाना चाहिए
  • साधारण चीनी या तेजी से काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट का सेवन न करें।
  • पास्ता , सफेद ब्रेड और चावल खाने से बचें।
  • कैंडी न खाएं।
  • फ्रूट जूस पीने से बचें
आपको चॉकलेट और वसायुक्त उत्पादों (fatty products)  के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि वे उच्च और निम्न ‘ स्पाइक्स ‘ (high and low spikes) का कारण बन सकते हैं।

अंत में:

एक उचित आहार योजना और स्वस्थ जीवन शैली के साथ टाइप -2 मधुमेह (type-2 diabetes) को प्रभावी ढंग से प्रबंधित किया जा सकता है। प्रबंधन के दौरान आपको डायबिटीज में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं , इसकी जानकारी होनी चाहिए। ब्रीद वेल-बीइंग (Breathe Well- Being) संगठन अपने मधुमेह शैक्षिक कार्यक्रमों और परामर्श सेवाओं के माध्यम से भोजन , आहार योजना , व्यायाम , दवाओं , रक्त परीक्षण और विशेषज्ञ राय पर विस्तृत जानकारी प्रदान करता है जो आपको कुशल तरीके से अपने मधुमेह का प्रबंधन करने में मदद कर सकता है। हमारे कई मरीज़ों की हालत ठीक हो गई है और अब वे स्वस्थ और सुखी जीवन जी रहे हैं। हमारा मानना ​​है कि रोगी के प्रयास और उचित उपचार मधुमेह के कुशल प्रबंधन में मदद कर सकते हैं। अपने आप में विश्वास रखें।

FAQs:

क्या मैं मधुमेह (diabetes) में सब्जी के अचार का सेवन कर सकता हूँ?‎

मीठे अचार में चीनी की मात्रा अधिक होने के कारण इसे खाने से बचना चाहिए। अगर आपको सोडियम लेवल कंट्रोल या ब्लड प्रेशर (sodium level control or blood pressure) की समस्या नहीं है तो आप अचार खा सकते हैं लेकिन बहुत सीमित मात्रा में।

क्या मैं मधुमेह (diabetes) के दौरान सब्जियों के रस का सेवन कर सकता हूँ?‎

अगर आपकी बीमारी कण्ट्रोल में नहीं है और आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ा (blood sugar level) हुआ है तो वेजिटेबल जूस लेने से बचें क्योंकि इससे ब्लड शुगर बढ़ सकता है। नहीं तो 1 बार में ½ कप वेजिटेबल जूस लिया जा सकता है।

मधुमेह (diabetes) होने पर कितनी मात्रा में सब्जी खानी चाहिए?‎

दिन में कम से कम 3 से 5 बिना स्टार्च (non-starchy) वाली सब्जी खाना फायदेमंद है। सब्जियों में आधा कप पकी हुई सब्जियां और 1 कप कच्ची सब्जियां एक मरीज़ खा सकता हैं।

मधुमेह (diabetes) होने पर और दिल से संबंधित समस्या होने पर मुझे कौन से फल खाने चाहिए?‎

एंटीऑक्सिडेंट, खनिज, विटामिन और फाइबर (antioxidants, minerals, vitamins, and fibers) से भरपूर फल। उदाहरण के लिए आड़ू, सेब और एवोकैडो (Avocados)।

अगर मैं मधुमेह (diabetes) रोगी हूँ तो क्या मैं आम खा सकता हूँ?‎

अगर आप डायबिटिक (diabetic) हैं और आप कोई भी खाना या फल अपने डॉक्टर के बताये हुए डाइट चार्ट के मुताबिक खाते हैं तो इसमें कोई परेशानी नहीं है। आम का जीआई वैल्यू 51 होता है और इस तरह ब्लड शुगर लेवल (blood sugar level) पर इसका कोई खास असर नहीं होता है। लेकिन आम मीठा और कैलोरी से भरपूर होता है और यह आपके रक्त शर्करा के स्तर (blood sugar level) को प्रभावित कर सकता है। इस प्रकार, प्रति दिन छोटे से मध्यम आकार के आम के 1 से 2 स्लाइस खाये जा सकते है।

उच्च रक्त शर्करा के स्तर वाले मधुमेह में कौन से फल हानिकारक हैं?

उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वैल्यू वाले फल यदि अधिक मात्रा में लिए जाएं तो मधुमेह रोगियों के लिए हानिकारक होते हैं। उदाहरण के लिए अनानास, पका हुआ केला, बड़े आकार के आम, अधिक मात्रा में तरबूज, पके फल, फलों के रस, सेब की चटनी, पैक और प्रसंस्कृत फल।

क्या मधुमेह रोगी सूखे मेवे (dry fruits) खा सकते हैं ?

सूखे मेवे उच्च पोषण लाभ के होते हैं। लेकिन उच्च ग्लाइसेमिक मूल्यों के कारण वे रक्त शर्करा के स्तर को तुरंत बढ़ा देते हैं। लेकिन यदि आपका रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रण में है तो सूखे मेवे जैसे पिस्ता, खजूर, अखरोट, खुबानी, सीमित मात्रा में लिया जा सकता है।

संदर्भ

[1]. Chen, G. C., Koh, W. P., Yuan, J. M., Qin, L. Q., & van Dam, R. M. (2018). Green leafy and cruciferous vegetable consumption and risk of type 2 diabetes: results from the Singapore Chinese Health Study and meta-analysis. British Journal of Nutrition, 119(9), 1057-1067.[2]. Sluijs, I., Cadier, E., Beulens, J. W. J., Spijkerman, A. M. W., & Van der Schouw, Y. T. (2015). Dietary intake of carotenoids and risk of type 2 diabetes. Nutrition, Metabolism and Cardiovascular Diseases, 25(4), 376-381. https://www.nmcd-journal.com/article/S0939-4753(14)00373-1/fulltext\[3]. https://www.webmd.com/diabetes/diabetic-food-list-best-worst-foods[4]. https://www.diabetes.org/healthy-living/recipes-nutrition/eating-well/fatsLast Updated on by Dr. Damanjit Duggal 

Disclaimer

The information included at this site is for educational purposes only and is not intended to be a substitute for medical treatment by a healthcare professional. Because of unique individual needs, the reader should consult their physician to determine the appropriateness of the information for the reader’s situation.

Leave a Reply

Lower Your Blood Sugar Levels Naturally!

₹ 500 | ₹ 100
BOOK A CONSULTATION
X