मेटफोर्मिन का उपयोग, खुराक, फायदे और कीमत

दवाओं के साथ मधुमेह का प्रबंधन या डाईबिटीज़ मेनेजमेंट सबसे सरल और प्रभावी तरीका है। यह रोगियों को सिर्फ़ आहार और व्यायाम का पालन करने की तुलना में त्वरित और बेहतर परिणाम प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। इन दिनों बाजार में ब्लड ग्लूकोज़ लेवल को मैनेज करने के लिए कई दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन इनमें मेटफॉर्मिन सबसे अच्छा विकल्प है। यहाँ हम मेटफोर्मिन के उपयोग, खुराक, फायदे और कीमत के बारे में जानेंगें।

यह एक ऐसी दवा है जो न्यूनतम साइड इफेक्ट के साथ रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करती है। आपका डॉक्टर आपको सिर्फ़ यह या अन्य दवाइयों के साथ भी मेटफॉर्मिन लिख सकता है। हालांकि, अगर आपको इसके किसी साल्ट या ingredient से एलर्जी है या किडनी, लीवर या दिल की समस्या है तो मेटफॉर्मिन लेने से पहले डॉक्टर को जरूर बताएं। आइए इस ब्लॉग में हम जानेंगें मेटफोर्मिन 1000 मिलीग्राम टैबलेट के उपयोग, साइड इफेक्ट्स, खुराक और अंतःक्रियाओं के बारे में।

मधुमेह रोगियों के लिए मधुमेह की दवाएं वरदान से कम नहीं है। यह उन्हें अपने मधुमेह का प्रबंधन करने और स्वस्थ जीवन जीने में मदद करती है। कई दवा कंपनियां मधुमेह की दवाएं बनाती हैं जिसमें से मेटफोर्मिन शुगर पैशन्ट के लिए डाईबिटीज़ मेनेज करने के लिए प्रमुख विकल्प है। यह मधुमेह के लिए एक प्रभावी और सस्ती दवा है। इसके अलावा, यदि आप इसे प्रिस्क्रिप्शन के अनुसार लेते हैं तो मेटफॉर्मिन का कोई दुष्प्रभाव या साइड-इफ़ेक्ट्स नहीं है।

डायबिटीज टाइप-1 और टाइप-2 शुगर के मरीजों के लिए मेटफोर्मिन डॉक्टरों की पहली पसंद रहा है। यह बिना किसी दुष्प्रभाव या साइड-इफ़ेक्ट्स के शुगर के रोगियों में रक्त शर्करा या ब्लड शुगर के स्तर को मेनेज व कंट्रोल करने में मदद करता है।

Table of Contents

मेटफोर्मिन के बारे में मुख्य तथ्य

मेटफोर्मिन खाने के मुख्य फायदे

मेटफोर्मिन एक प्रिस्क्रिप्शन दवा है जो टाइप -2 मधुमेह का इलाज करती है और टाइप -2 डाईबिटीज़ के विकास के रिस्क को रोकती है। मेटफोर्मिन आपके शरीर की इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने में मदद करता है जब आपका शरीर आपके शरीर द्वारा बनाए गए इंसुलिन के उपयोग करने में असमर्थ होता है। इसलिए, यह आपके रक्त शर्करा के बढ़े हुए स्तर को कम करने में मदद करता है। डॉक्टर आमतौर पर इस दवा को रोगियों को तब लिखते हैं जब केवल आहार (डाइट) और व्यायाम (एक्सर्साइज़) ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित नहीं कर पाते। आइए जाने कुछ प्रमुख तथ्य इस सबसे ज़्यादा उपयोग की जाने वाली डाईबिटीज़ की दवा मेटफोर्मिन के बारे में:

  • मेटफोर्मिन गोलियों और तरल पदार्थों (liquid form) के रूप में उपलब्ध है जिसे आप पी भी सकते हैं।
  • यह विभिन्न डोसेज़ में उपलब्ध है: 500 मिलीग्राम, 850 मिलीग्राम, और 1000 मिलीग्राम।
  • मेटफोर्मिन को भोजन के साथ लेना सबसे अच्छा होता है क्योंकि इससे साइड इफेक्ट होने की संभावना कम हो जाती है।
  • कुछ अन्य मधुमेह दवाओं के विपरीत, मेटफोर्मिन वज़न बढ़ने का कारण नहीं बनती है।
  • Bolamyn, Diagemet, Glucient, Glucophage, और Metabet मेटफॉर्मिन के कुछ प्रचलित ब्रांड नाम हैं।
  • रिओमेट लिक्विड मेटफोर्मिन का नाम है।

और पढ़े: डायबिटीज में ड्राई फ्रूट्स खाने के फ़ायदे?

मेटफॉर्मिन 500 और मेटफॉर्मिन 1000 के बीच अंतर

मेटफोर्मिन विभिन्न डोसेज़ में उपलब्ध है जिनकी स्ट्रेंथ अलग-अलग होती है। इसलिए, मेटफॉर्मिन 500 और मेटफॉर्मिन 1000 एक ही उद्देश्य की पूर्ति करते हैं लेकिन अलग-अलग क्षमताओं में। जब मधुमेह के रोगियों को रक्त शर्करा के स्तर में अचानक वृद्धि का अनुभव होता है, तो मेटफॉर्मिन 1000 मिलीग्राम सहायक होता है। इसके अलावा  जिन रोगियों को मेटफोर्मिन 500 मिलीग्राम से लाभ नहीं मिल रहा है, वे अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए अपनी खुराक बढ़ा सकते हैं और मेटफोर्मिन 1000  मिलीग्राम शुरू कर सकते हैं लेकिन डॉक्टर से परामर्श के बाद।

और पढ़े: नारियल पानी शुगर पेशेंट्स के लिए कितने फायदेमंद होता है ?

मेटफोर्मिन 1000 एमजी टैबलेट (Metformin 1000 MG Tablet) कैसे काम करती है?

मेटफोर्मिन 1000 मिलीग्राम एक एंटी-डाइबीटिक दवा है और यह दवा के बिगुआनाइड ( biguanide) वर्ग से संबंधित है। यह लीवर में ग्लूकोज के उत्पादन को कम करती है जिससे पेट में ग्लूकोज़ धीरे-धीरे अवशोषित होता है और ब्लड शुगर स्पाइक नहीं होता। इस प्रकार इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ने से आपका शरीर ब्लड शुगर लेवल को प्रभावी ढंग से नियंत्रित कर पाता है।

और पढ़े: क्या एंटीबायोटिक्स खाने से ब्लड शुगर बढ़ जाता है?

मेटफोर्मिन 1000 एमजी टैबलेट (Metformin 1000 MG Tablet) का इंसुलिन के साथ कॉम्बिनेशन

यदि किसी व्यक्ति के शरीर में रक्त शर्करा के स्तर में तेजी से वृद्धि होती है तो एसी स्थिति में डॉक्टर मेटफॉर्मिन और इंसुलिन को एक साथ लेने का सुझाव दे सकते हैं। यह कोम्बीनेशन रक्त शर्करा के स्तर को बेहतर ढंग से नियंत्रित करने में मदद करता है। जो लोग इंसुलिन के साथ कोम्बीनेशन में दवा मेटफॉर्मीन का उपयोग करते हैं, उनमें केवल इंसुलिन लेने वालों की तुलना में हृदय संबंधी समस्याओं के रिस्क में कमी देखी जाती है। मेटफोर्मिन का नियमित सेवन इंसुलिन सेवन की खुराक को कम करने में मदद करता है और बेहतर ग्लाइसेमिक नियंत्रण प्रदान करता है।

और पढ़े: डायबिटीज कण्ट्रोल करें भारतीय आहार से

मेटफोर्मिन 1000 एमजी टैबलेट (Metformin 1000 MG Tablet) की खुराक

मेटफोर्मिन 1000 एमजी

मेटफोर्मिन की सही खुराक डाईबिटीज़ नियंत्रण के लिए शुगर  लेवल के स्तर को मेनेज करने में बहुत मदद करती है। लेकिन सुझावित मात्रा से अधिक डोज़ या खुराक लेने से हाइपोग्लाइसीमिया या अन्य संबंधित दुष्प्रभाव की संभावना बढ़ जाती हैं। डॉक्टर वृद्ध लोगों और लिवर और किड्नी की समस्याओं वाले लोगों के लिए मेटफॉर्मिन रेकमेंड नहीं करते हैं क्योंकि इससे रोगियों में लैक्टिक एसिडोसिस और अन्य जठरांत्र (पेट व आंतों से) संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। रक्त शर्करा के स्तर को बेहतर ढंग से नियंत्रित करने के लिए मेटफोर्मिन की खुराक को भी एक दिन में कई भागों में विभाजित किया जा सकता है।

मेटफोर्मिन की खुराक हर व्यक्ति में अलग-अलग होती है। रोगियों के लिए मेटफॉर्मिन की खुराक तय करने के लिए जीवनशैली, डाइबीटिक व्यक्ति की स्वास्थ्य स्थिति और रक्त शर्करा का स्तर या शुगर लेवल्स मुख्य कारक हैं।

और पढ़े: होम्योपैथिक दवाओं से कण्ट्रोल करें अपना डायबिटीज

मधुमेह टाइप -2 रोगियों में सामान्य वयस्क के लिए खुराक

विस्तारित-रिलीज़ मेटफॉर्मिन की प्रारंभिक खुराक प्रति दिन 500 मिलीग्राम से 1000 मिलीग्राम तक भिन्न हो सकती है। डॉक्टर आपके शरीर की सहनशीलता की सीमा के आधार पर खुराक को प्रति सप्ताह 500 मिलीग्राम बढ़ा सकते हैं। हालांकि, विस्तारित-रिलीज़ मेटफॉर्मिन की अधिकतम खुराक प्रति दिन 2000 मिलीग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए। यदि कोई डॉक्टर 2000 मिलीग्राम की खुराक निर्धारित करता है, तो रोगी अपनी खुराक को दो भागों में विभाजित कर सकते हैं। इसलिए, वे अपने चिकित्सक से परामर्श के बाद दिन में दो बार मेटफोर्मिन 1000 मिलीग्राम ले सकते हैं। रोगियों को दवा लेने के समय के बारे में भी डॉक्टर से जांच करानी चाहिए। यह मेटफोर्मिन के ओवरडोज़ को रोकने में मदद करता है।

और पढ़े: शुगर में कौन से फल सुरक्षित है खाने के लिए

मधुमेह टाइप -2 रोगियों में बच्चों के लिए सामान्य चिकित्सा खुराक

10 वर्ष या उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए विस्तारित-रिलीज़ (extended release) मेटफॉर्मिन की प्रारंभिक खुराक सहनशीलता और ग्लाइसेमिक नियंत्रण के आधार पर दिन में एक बार 500 मिलीग्राम है। डॉक्टर खुराक को प्रति सप्ताह 500 मिलीग्राम बढ़ा सकते हैं। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल साइड इफेक्ट से बचने के लिए खुराक को धीरे-धीरे कम करें। डॉक्टर टाइप-2 मधुमेह वाले बच्चों में व्यायाम और आहार के अतिरिक्त ग्लाइसेमिक नियंत्रण में सुधार करने के लिए मेटफोर्मिन लेने का परामर्श देते हैं।

वृद्ध लोगों के लिए मेटफोर्मिन की खुराक अलग अलग लोगों में कई वजहों पर निर्भर करती है जैसे गुर्दे की समस्याएं या लिवर प्रॉब्लम्स आदि। आमतौर पर, डॉक्टर ऐसे रोगियों को मेटफोर्मिन नहीं लिखते हैं। यदि उन्हें कुछ मामलों में मेटफोर्मिन लिखनी है, तो वे पहले उसकी अधिकतम मात्रा सुनिश्चित करते हैं जिससे उन्हें कोई साइड-एफेक्ट्स ना हो।

और पढ़े: मधुनाशिनी वटी के उपयोग और खाने की सही ख़ुराक

मेटफोर्मिन 1000 एमजी टैबलेट (Metformin 1000 MG Tablet) के साथ अन्य दवाओं का प्रभाव या ईनटेरेक्शन

मेटफोर्मिन के साथ ड्रग इंटरेक्शन काफी देखने को मिलता है। ड्रग इंटरेक्शन का मतलब है कि किसी और दवा के साथ, कोई और दवा लेने पर उसका आपके शरीर पर पढ़ने वाला प्रभाव या दुष्प्रभाव। जब कोई अन्य दवा मेटफॉर्मिन के साथ परस्पर क्रिया या इंटेरेक्ट करती है, तो यह या तो अपने प्रभाव को कम कर सकती है या इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं। ड्रग इंटरेक्शन का मतलब यह नहीं है कि आपको किसी भी दवा को लेना बंद कर देना चाहिए। ड्रग इंटरेक्शन को मेनेज करने के लिए आप अपने डॉक्टर से बात करें। एहतियात के तौर पर, डॉक्टर को उन दवाओं के बारे में जरूर बताएं जो आप पहले से ले रहें हैं। यह ड्रग इंटरेक्शन को रोकने में मदद करेगा।

इस दवा के साथ परस्पर क्रिया या इंटेरेक्ट करने वाली सामान्य दवाओं में शामिल हैं:

  • एंटीडिप्रेसेंट
  • वैनकॉमायसिन
  • एस्पिरिन और अन्य सैलिसिलेट्स
  • डायजोक्सिन
  • निकोटिनिक एसिड
  • Vandetanib
  • थायराइड एजेंट
  • वेरापामिल
  • ओन्डेनसेट्रॉन
  • गर्भनिरोधक गोली
  • कैल्शियम चैनल अवरोधक
  • कार्बोनिक एनहाइड्रेज़ अवरोधक

कई दवाएं जैसे कुछ एंटी-डाइबीटिक आसानी से मेटफॉर्मिन के साथ परस्पर क्रिया करती हैं। इसलिए आपको अपने डॉक्टर को अपनी अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में सूचित करना चाहिए जिनके लिए आप दवाएं ले रहे हैं। मेटफोर्मिन लेते समय आपको अन्य दवाएं लेने से भी बचना चाहिए।

मेटफोर्मिन 1000 एमजी टैबलेट (Metformin 1000 MG Tablet) के साइड इफेक्ट्स

मेटफोर्मिन के साइड इफेक्ट्स

मेटफोर्मिन की इन्हीं कमियों को ध्यान में रखते हुए, अपने डॉक्टर के साथ अपने मेडिकल हिस्ट्री पर अवश्य बात करें। यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करते हुए मेटफोर्मिन के दुष्प्रभावों से बचने में आपकी मदद करेगा। इसके अलावा, यह मधुमेह से संबंधित जटिलताओं के विकास के रिस्क को भी कम करेगा।

शुगर के ऐसे मरीज जिनकी उम्र 18 से 60 वर्ष के बीच है, और जो कोई दवा नहीं लेते हैं, और उन्हें कोई अन्य चिकित्सीय स्थिति या समस्या नहीं है, उन्हें कुछ साइड इफेक्ट्स का अनुभव हो सकता है जैसे:

  • दस्त, उल्टी, जी मिचलाना, अपच, ऊर्जा की कमी, स्वाद में गड़बड़ी या सूजन मेटफोर्मिन के कुछ दुष्प्रभाव हैं।
  • शरीर में विटामिन बी12 की कमी होने से आपका शरीर विटामिन बी12 का अवशोषण बंद कर देता है। हालांकि, यह एनीमिया का कारण नहीं बनता है।
  • मेटफोर्मिन यकृत विकार या लिवर डिसॉर्डर्स और क्रोनिक मेटाबोलिक एसिडोसिस वाले डाइबीटिक लोगों के लिए उपयुक्त नहीं है। यह मधुमेह केटोएसिडोसिस के संभावित जोखिम को बढ़ाता है।
  • डाईबिटीज़ कंट्रोल करने व बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए कुछ डाइबीटिक रोगियों को अपने खाने में कई परहेज़ रखने पड़ते हैं। उन्हें अस्थायी रूप से मेटफॉर्मिन लेना बंद करना पड़ सकता है। इससे डिहाइड्रेशन, किडनी खराब होने और लो ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ जाता है।
  • मेटफोर्मिन के सबसे बुरे दुष्प्रभाव में लैक्टिक एसिडोसिस शामिल है, और यह रोगियों के लिए घातक हो सकता है। वृद्ध लोगों और किड्नी की बीमारी वाले लोगों में लैक्टिक एसिडोसिस का खतरा अधिक होता है। कुछ मधुमेह की दवाएं भी हैं जो गुर्दे के कार्य को प्रभावित करती हैं। यदि गुर्दे की बीमारी वाले लोग बिना प्रिस्क्रिप्शन के मेटफोर्मिन लेते हैं, तो उन्हें भी लैक्टिक एसिडोसिस होने का खतरा होता है।
  • मेटफोर्मिन रीनल इंपेयरमेंट वाले मधुमेह रोगियों के लिए भी अनुपयुक्त है। 45 एमएल/मिनट से कम अनुमानित ग्लोमेरुलर फ़िल्टरेशन रेट (ईजीएफआर) वाले शुगर रोगी मेटफोर्मिन लेने से सख्ती से बचें।

और पढ़े: डायबिटीज में खाने के लिए उच्चतम सब्जियां

मेटफोर्मिन के उच्चतम प्रभाव के लिए अपनाएं ये टिप्स

मेटफोर्मिन को कुछ सावधानियों के साथ लेने से मधुमेह के रोगियों को उनके ब्लड शुगर कंट्रोल करने के साथ डाईबिटीज़ मेनेज करने में सर्वोत्तम परिणाम मिलते हैं। आपको मेटफोर्मिन लेते समय कुछ टिप्स अपनाने की ज़रूरत है जिनमें शामिल है कुछ खाद्य पदार्थों से बचना,  मेटफॉर्मिन लेने का तरीका और मेटफॉर्मिन की खुराक के बारे में जानना आदि। यह आपको मेटफॉर्मिन के दुष्प्रभावों या साइड-इफ़ेक्ट्स से बचने में मदद करेगा।

शुगर के मरीज कुछ टिप्स अपनाकर मेटफोर्मिन का ज़्यादा से ज़्यादा फायदा उठा सकते हैं। ऐसी ही कुछ टिप्स हैं:

  • भोजन के साथ Metformin 100 mg लें। यह पेट खराब होने की समस्या से भी बचाएगा और अपच को भी रोकेगा।
  • मेटफोर्मिन स्लो-रिलीज़ टैबलेट को क्रश, चबाना या तोड़ कर न लें। मेटफोर्मिन टैबलेट को पूरा निगल लें।
  • मेटफोर्मिन लेने वाले मरीजों को नियमित रूप से अपने रक्त शर्करा के स्तर को मॉनिटर करना चाहिए। यह निम्न रक्त शर्करा के स्तर को रोकने में मदद करता है। उन्हें किड्नी फ़ंक्शन से संबंधित टेस्ट समय समय पर करवा के मॉनिटर करने चाहिए। इससे किड्नी प्रॉब्लम्स से होने वाली समस्याओं पर मेटफोर्मिन के दुष्प्रभावों से बचने में मदद मिलती है।
  • मेटफॉर्मिन व इसके साथ ली जाने वाली अन्य दवाओं का ध्यान रखें। मधुमेह टाइप-2 डाईबिटीज़ मेनेजमेंट के लिए अपने खाने व लाइफस्टाइल पर अच्छे से ध्यान दें।
  • मेटफोर्मिन लेते समय अक्सर या अधिक मात्रा में शराब का सेवन न करें। इससे लैक्टिक एसिडोसिस का खतरा बढ़ जाता है।
  • साइड इफेक्ट्स का अनुभव होने पर अपने चिकित्सक से परामर्श करने के बाद मेटफॉर्मिन को अस्थायी रूप से बंद करें।
  • सुनिश्चित करें कि आपका डॉक्टर शुरुआत में मेटफॉर्मिन की न्यूनतम खुराक ही आपको दे। मेटफोर्मिन को हाई डोज़ के साथ शुरू न करें। यह निम्न रक्त शर्करा के स्तर या हाइपोग्लाइसीमिया को जन्म दे सकता है। हालांकि यह  खुराक एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है।

और पढ़े: मधुमेह को कण्ट्रोल करने के लिए कुछ घरेलु उपाय

निष्कर्ष

मेटफोर्मिन एक सेफ दवा है जो टाइप 1 व टाइप 2 डाईबिटीज़ दोनों में प्रभावकारी है। यह आपके शुगर लेवेल्स को नियंत्रित करके आपको एक सामान्य जीवन जीने में सहायता करती है। टाइप 2 डाईबिटीज़ के लोगों में डाइट, एक्सर्साइज़ व लाइफस्टाइल में परिवर्तन के साथ केवल मेटफोर्मिन लेने से ही आपकी शुगर कंट्रोल की जा सकती हैं। हालांकि अलग-अलग लोगों में इसके डोज़ अलग-अलग निर्धारित किए जाते हैं। डॉक्टर आपके शुगर लेवल व अन्य शारीरिक समस्याओं के आधार पर आपको अलग-अलग मात्रा में इसे प्रीस्क्राइब करते हैं। यह अन्य कई दवाओं के साथ इंटेरेक्ट करती है और कई साइड-इफ़ेक्ट्स भी दे सकती है तो इसके लिए अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श लें। यदि आप पहले से कोई दवा ले रहें हैं तो यह भी अपने डॉक्टर को ज़रूर बताएं। इसके साथ क्या खाएं, क्या न खाएं व क्या परहेज करें, इन सबके बारे में इस ब्लॉग में ऊपर विस्तारपूर्वक बताया गया है।

और पढ़े: फास्टिंग शुगर लेवल अगर 200 हो तो क्या करें?

FAQs:

क्या मैं एक ही समय में दो मेटफोर्मिन 500 मिलीग्राम ले सकता हूं?

मेटफोर्मिन 500 मिलीग्राम या 1000 मिलीग्राम डॉक्टर के पर्चे के अनुसार लेने से आपके रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद मिलती है। हालांकि, छूटी हुई खुराक या डोज़ को पूरा करने या एकदम से शुगर कंट्रोल करने के लिए अधिक खुराक लेना हानिकारक हो सकता है। इससे हाइपोग्लाइसीमिया, मतली, उल्टी, पेट खराब होना और दस्त जैसे दुष्प्रभाव या साइड-इफ़ेक्ट्स हो सकते हैं। यदि कोई डॉक्टर आपको 500 मिलीग्राम या 1000 मिलीग्राम मेटफॉर्मिन निर्धारित करता है, तो एक बार में सही खुराक लेना सुनिश्चित करें। यदि आप खुराक चूक जाते हैं, तो अधिक मात्रा में न लें।

मेटफोर्मिन आपके शरीर में कितने समय तक रहता है?

मेटफोर्मिन आपके सिस्टम में लगभग चार दिनों तक रहता है। इसका आधी मात्रा लगभग 17.6 घंटे  में निष्कासित होती है। मेटफोर्मिन को आपके शरीर से बाहर निकलने में लगभग 96.8 घंटे लगते हैं। हालाँकि, किसी व्यक्ति के शरीर में मेटफोर्मिन की उपस्थिति की अवधि अलग-अलग होती है। आपके शरीर में मेटफोर्मिन के रहने की अवधि कुछ कारकों द्वारा निर्धारित होती है जैसे आपकी चयापचय दर या मेटाबॉलिक रेट, आयु, स्वास्थ्य और बॉडी मास।

यदि मेटफोर्मिन टाइप-2 मधुमेह वाले व्यक्ति को लाभ नहीं दे रहा है तो क्या करें?

मेटफोर्मिन टाइप-2 मधुमेह वाले लोगों के लिए सबसे प्रभावी दवाओं में से एक है। यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को नॉर्मल बनाए रखने में मदद करती है। फिर भी, यदि कुछ डाइबीटिक लोगों के ब्लड शुगर लेवल मेटफोर्मिन से भी नियंत्रित नहीं होते हैं तो उन्हें अपने डॉक्टरों से परामर्श करने की आवश्यकता होती है। डॉक्टर ऐसी स्थिति में कोई अन्य दवा भी जोड़ सकते हैं। इस प्रकार आप अपने मधुमेह के इलाज में एक और दवा जोड़ सकते हैं। हालांकि यह सेकन्डरी प्रेसक्रिप्शन हर किसी के लिए नहीं होता, यह व्यक्तियों की शारीरिक आवश्यकताओं पर निर्भर करता है। 

मेटफोर्मिन लेते समय आपको किन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए?

मेटफोर्मिन लेते समय अधिक मात्रा में शराब का सेवन करने से बचें। यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को काफी कम कर सकता है और हाइपोग्लाइसीमिया का कारण बन सकता है। यह लैक्टिक एसिडोसिस का कारण भी बन सकता है। 

मेटफोर्मिन लेने के बाद आपको उच्च फाइबर वाले खाने से भी बचना चाहिए। फाइबर दवा के साथ बाइंड हो कर उसके असर व concentration को कम कर सकता है। ज़्यादा फाइबर मेटफॉर्मिन की प्रभावशीलता को कम कर देता है। 

मेटफोर्मिन को आपके शरीर पर असर दिखाने में कितना समय लगता है?

आप मेटफोर्मिन की तत्काल-रिलीज़ टैबलेट के साथ 2-3 घंटों के भीतर और धीमी-रिलीज़ गोलियों के साथ लगभग 4-8 घंटों के भीतर इसके परिणाम देख सकते हैं। अधिकतम प्रभाव प्राप्त करने के लिए मेटफॉर्मिन की नियमित खुराक के साथ एक या दो सप्ताह तक का समय लग सकता है। एक बार जब आपका शरीर मेटफोर्मिन की खुराक पर प्रतिक्रिया देना शुरू कर देता है, तो आपका डॉक्टर रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य स्तर पर बेलेन्स करने के लिए आपके शरीर की आवश्यकता के आधार पर खुराक को बढ़ा या घटा सकता है।

Last Updated on by Dr. Damanjit Duggal 

Disclaimer

The information included at this site is for educational purposes only and is not intended to be a substitute for medical treatment by a healthcare professional. Because of unique individual needs, the reader should consult their physician to determine the appropriateness of the information for the reader’s situation.

Leave a Reply

Lower Your Blood Sugar Levels Naturally!

₹ 500 | ₹ 100
BOOK A CONSULTATION
X